knee-pain-in-hindi

बढ़ती उम्र और शरीर में पोषक तत्वों की कमी जैसे बहुत से ऐसे कारण हैं जो घुटनों में दर्द के लिए जिम्मेदार होते हैं। वर्तमान समय में खान-पान में इतना ज्यादा बदलाव आ गया है कि व्यक्ति के शरीर को पोषक तत्व की निश्चित मात्रा नहीं मिल पाती है और यह दर्द आम होता जा रहा है। यही वजह है कि आजकल के बच्चे भी इस गंभीर बीमारी के शिकार हो रहे हैं। घुटनों का दर्द किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। खुशकिस्मती यह है कि घुटनों का दर्द लाइलाज नहीं है। कुछ घरेलू उपायों को आज़माकर घुटने के साधारण दर्द को दूर किया जा सकता है। आज हम आपको घुटनों के दर्द का इलाज करने के लिए कुछ ऐसे आसान घरेलू उपाय के बारे में बताएंगे जिससे आप साधारण दर्द को दूर कर सकेंगे।

एक नजर

  • घरेलू उपाय आजमाने के बाद भी दर्द ठीक नहीं होता तो डॉक्टर से घुटनों की जांच करानी चाहिए
  • घुटने में दर्द होने पर खान-पान पर विशेष ध्यान देना चाहिए
  • घुटनों में दर्द की वजह जानने के लिए डॉक्टर घुटनों की जांच दो तरह से करता है

घुटनों में दर्द के लक्षण – Symptoms of knee pain in Hindi

  • घुटने के आसपास सूजन दिखाई देना
  • घुटनों को मोड़ने में परेशानी होना
  • पैरो को हिलाते वक्त घुटने से हड्डी टकराने की आवाज़ आना
  • घुटना सीधा करने पर परेशानी होना
  • दर्द से प्रभावित हिस्से में लालिमा छा जाती है और टच करने में गर्म महसूस होना

घुटनों में दर्द के कारण – Causes of knee pain in Hindi

घुटने का दर्द कई प्रकार का हो सकता है। कुछ दर्द थोड़े समय के लिए रहते हैं तो कुछ बहुत लंबे समय तक परेशान करते हैं। ‘घुटनों में दर्द’ कई बीमारियों के कारण भी हो सकता है आइये उनके बारे में चर्चा करते हैं-

बर्साइटिस (Bursitis )

जब हम घुटनों का बहुत देर तक इस्तेमाल करते हैं या फिर सामान्य मात्रा से ज्यादा इस्तेमाल करते हैं तब हमें यह समस्या होती है।

डिस्लोकेशन (Dislocation)

घुटने की हड्डी टूट जाने पर या फिर अपने जगह से अस्थिर हो जाने पर डिस्लोकेशन की समस्या होती है। डिस्लोकेशन (Dislocation) की समस्या होने पर डॉक्टर प्लास्टर (Plaster) लगाने की सलाह देता है।

गाउट (Gout)

यह बिल्कुल अर्थराइटिस (Arthritis) की तरह है। जब हमारे शरीर में यूरिक एसिड (Uric Acid) बहुत अधिक मात्रा में उत्पन्न होने लगती है तब गाउट की समस्या होती है और इससे घुटनों में दर्द उत्पन्न होता है।

टेंडिनाइटिस (tendonitis)

टेंडिनाइटिस (tendonitis) एक तरह का दर्द होता है जो घुटनों के सामने वाले हिस्से को प्रभावित करता है। इस दर्द के कारण सीढ़ियां चढ़ने और उठने-बैठने में काफी परेशानी होती है।

ऑस्टियोआर्थराइटिस (Osteoarthritis)

घुटनों की संरचना में किसी भी तरह का बदलाव आने या फिर उनकी स्थिति खराब होने पर यह समस्या होती है। इसमें दर्द के साथ-साथ सूजन भी तेजी से फैलता है।

बेकर्स सिस्ट (Baker’s cyst)

घुटनों के पीछे की तरफ तैलीय गुणवत्ता वाले fluid के निर्माण होने पर बेकर्स सिस्ट की समस्या होती है। इस fluid को सिनोवियल (Synovial) कहते हैं। 

मेनिस्कस टियर (meniscus tear)

लचीले एवं सफेद रंग के टिश्यू (Tissue) जो घुटनों से जुड़े हुए होते हैं, उन्हें कार्टिलेज (Cartilage) कहते हैं। जब कार्टिलेज फट या टूट जाता है तो घुटनों में दर्द की समस्या होती है।

आर्थराइटिस (Arthritis)

इसकी शुरुआत घुटनों में सूजन के साथ होती है। इसके होने पर लंबे समय से सूजन की समस्या रहती है और तेज दर्द भी रहता है। कुछ दिनों बाद घुटने की हड्डियों में विकार उत्पन्न होने लगता है और यह कमजोर हो जाती हैं।

हड्डियों का कैंसर

हमारे हड्डियों में भी कैंसर हो सकता है। ऑस्टियोसार्कोमा (Osteosarcoma) हड्डी का कैंसर है जो ज्यादातर घुटनों पर ही होता है। इस समस्या के होने पर तेज दर्द होता है और हड्डियां कमजोर होने लगती हैं।

लिगामेंट (Ligament) टूटने से

लिगामेंट एक मजबूत और लचीला टिश्यू (Tissue) होता है जो दो हड्डियों को जोड़ने का कार्य करता है। हमारे घुटनों में भी लिगामेंट मौजूद होता है जिससे घुटने के ऊपर और नीचे की हड्डियां आपस में जुड़ी रहती हैं। लिगामेंट के टूटने पर असहनीय दर्द का सामना करना पड़ता है।

घुटनों में दर्द के अन्य कारण:

  • काम करते वक्त घुटनों में ज्यादा बल देने से घुटने दर्द देने लगते हैं
  • हड्डियों का कमजोर होना भी घुटने का दर्द उत्पन्न कर सकता है
  • ज्यादा देर तक पैर मोड़कर बैठने या एक ही अवस्था में बहुत समय तक घुटनों को सीमित रखने से भी घुटने दर्द देने लगते हैं
  • मोटापे से हड्डियों पर दबाव पड़ता है और फिर घुटनों के दर्द का सिलसिला शुरू हो जाता है इसलिए, अगर आप मोटे हैं तो अपना वजन कम करने की कोशिश करें
  • अधिक खेल कूद या व्यायाम

घुटनों के दर्द का घरेलू इलाज – Home Remedies for knee pain in Hindi

लाल मिर्च

घुटनों में दर्द से छुटकारा पाने के लिए लाल मिर्च का प्रयोग आसानी से किया जा सकता है। दो चम्मच पिसी हुई लाल मिर्च को आधा कप जैतून के तेल में मिलाएं और उबालें। इसमें थोड़ी मात्रा में बी वैक्स (bee wax) डालकर लगातार चलाते रहें और 10 मिनट बाद स्टोव से उतार लें। अब इसे ठंडा होने के लिए रख दें और ठंडा होने के बाद एक बार फिर अच्छी तरह चलाएं। अब आपका लाल मिर्च का लेप तैयार हो चुका है आप इसे अपने घुटनों पर लगा सकते हैं। 

लाल मिर्च में एनाल्जेसिक (Analgesic) गुण पाए जाते हैं जो प्राकृतिक रूप से दर्द दूर करने का कार्य करते हैं।

हल्दी

एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी मिलाकर सोने से पहले सेवन करें। हल्दी दर्द को कम करने के लिए एक बेहतर औषधि है। आप इसका सेवन दिन में दो बार भी कर सकते हैं। इससे घुटनों के दर्द से राहत मिलेगी।

सेब का सिरका

एक गिलास गर्म पानी में दो चम्मच सेब के सिरके को डालकर खाना खाने से पहले पीयें। इससे घुटनों के दर्द से छुटकारा मिलता है। सेब के सिरके को नारियल तेल में मिलाकर प्रभावित क्षेत्र में लगाने से भी दर्द कम होता है। सेब के सिरके में एंटी-इन्फ्लेमेटरी (Anti-inflammatory) गुण मौजूद होते हैं जिससे सूजन खत्म होता है और दर्द भी कम होता है।

अदरक

घुटनों के दर्द में आप अदरक को दो तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं। अदरक की चाय पीने से दर्द की समस्या दूर होती है। इसके अलावा अदरक को पीसकर किसी सूती कपड़े में लपेटकर घुटनों पर रखने से भी दर्द कम होता है। अगर आप ऑस्टियोअर्थराइटिस (Osteoarthritis) की समस्या से परेशान है तो अदरक को अवश्य प्रयोग में लाएं। अदरक में जिंजेरॉल (Gingerol) नामक  पदार्थ पाया जाता है जो दर्द दूर करने में मुख्य भूमिका निभाता है।

सेंधा नमक

सेंधा नमक को एक बेहतरीन दर्द निवारक माना जाता है। किसी बड़े बर्तन में गुनगुना पानी रखें और इसमें सेंधा नमक मिलाएं। अब अपने घुटनों को कुछ देर तक बर्तन में डुबोकर रखें। सेंधा नमक में मैग्नीशियम ऑल सल्फेट (Magnesium all sulphate) जैसे फायदेमंद मिनरल (Mineral) मौजूद होते हैं जो सूजन और दर्द कम करने का कार्य करते हैं। 

मेथी

मेथी के दानों का पेस्ट बनाकर दर्द दे रहे क्षेत्र पर लगाने से बहुत आराम मिलता है। मेथी प्राकृतिक पेन किलर (Pain killer) के रूप में कार्य करती है। रोजाना दिन में 1 बार इस घरेलू उपाय को आजमाने से कुछ ही हफ्तों में घुटने के दर्द से छुटकारा मिल जाता है।

तिल का तेल

आधा कप तिल के तेल में दो चम्मच नींबू का रस डालकर अच्छी तरह से मिलाएं। अब इस मिश्रण को घुटनों पर लगाकर घुटनों की धीरे-धीरे मालिश करें। नींबू और तिल के तेल में सूजन और दर्द को दूर करने के चमत्कारी गुण पाए जाते हैं। 

सरसों का तेल

आधा कप सरसों के तेल में दो से तीन लहसुन की कलिया डालकर अच्छी तरह से उबालें। जब तेल का तापमान सहन करने योग्य हो जाए तब इसे घुटनों पर लगा कर मालिश करें।  इस उपाय को आजमाने से दर्द दूर होगा साथ ही सूजन भी खत्म हो जाएगा। कई शोध में यह बात सामने आ चुकी है कि आर्थराइटिस (Arthritis) में लहसुन का उपयोग बहुत लाभकारी होता है। रूमेटाइड (Rheumatoid) की समस्या से उत्पन्न होने वाले दर्द में भी लहसुन का प्रयोग किया जा सकता है।

पुदीने का तेल

दो चम्मच पुदीने के तेल में आधा चम्मच नारियल का तेल मिलाकर घुटनों में लगाने से बहुत आराम मिलता है। नॉर्मल (Normal) दर्द और सूजन दूर करने के लिए आप इसका प्रयोग कर सकते हैं। अगर आप हमेशा घुटनों में दर्द की समस्या से परेशान रहते हैं तो इसे दिन में दो बार प्रयोग करें। 

लौंग

लौंग एक तरह का प्राकृतिक पेन किलर (Pain killer) है जो दर्द और सूजन के अलावा खतरनाक बैक्टेरिया (Bacteria) का भी सफाया कर देता है। लौंग और अजवाइन के पेस्ट को घुटनों पर लगाने से दर्द में कमी आएगी। यह घरेलू उपचार बहुत जल्द असर दिखाता है।

जैतून का तेल

घुटनों में सूजन और दर्द की समस्या से छुटकारा पाने के लिए जैतून के तेल की मालिश की जा सकती है। जैतून के तेल में टायरोसॉल (Tyrosol) और पॉलिफिनॉल्स (Polyphenols) जैसे  बायोलॉजिकल (Biological) तत्व पाए जाते हैं जो मांसपेशियों के दर्द में बहुत लाभदायक है। 

सिंहपर्णी (Dandelion) की पत्तियां

सिंहपर्णी की पत्तियां और शहद के इस्तेमाल से घुटनों के दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है। डंडेलियन (Dandelion) की पत्तियों को पानी में उबालें और इसे छान लें। इस गुनगुने पानी में शहद मिलाकर पीयें। इससे घुटनों में सूजन की समस्या दूर होती है। 

घुटनों की सिंकाई

हॉट (Hot) और कोल्ड (Cold) सिंकाई कर आप घुटनों के दर्द से राहत पा सकते हैं। सबसे पहले घुटनों में 15 से 20 सेकंड तक हॉट पैक (Hot pack) रखें और फिर इतने ही समय तक कोल्ड पैक (Cold Pack) रखें। ऐसा करने से मांसपेशियों को राहत मिलती है और दर्द से छुटकारा मिलता है। घुटनों के आसपास मौजूद मांसपेशियों के जकड़ जाने पर भी दर्द होने लगता है। ऐसे में आप हॉट (Hot) ओर कोल्ड पैक (Cold pack) का इस्तेमाल कर सकते हैं।

ज्यादातर घुटनों में दर्द सामान्य कारणों से होता है जो ऊपर बताए गये नुस्खे आजमाने के बाद ठीक हो जाता है। लेकिन, कई बार यह दर्द कुछ बीमारी की वजह से होते हैं या इनके कारण जटिल (Complex) होते हैं। इसलिए, अगर ऊपर बताए गए घरेलू उपाय आजमाने के बाद भी घुटनों के दर्द से छुटकारा नहीं मिलता है तो रोगी को डॉक्टर के पास घुटनों की जांच करानी चाहिए।

जांच के बाद डॉक्टर आपके रोग के मुताबिक़ आपका इलाज करता है। कंडीशन के मुताबिक़ डॉक्टर आपको दवा, इंजेक्शन या किसी थेरेपी की सलाह दे सकता है या फिर सर्जरी के जरिये आपके घुटनों को दुरुस्त करता है|हालांकि, सर्जरी के पहले डॉक्टर दवा, इंजेक्शन या अन्य उपायों को आजमाता है। यदि, समस्या ठीक नहीं होती है तो डॉक्टर सर्जरी का सहारा लेता है।

घुटनों में दर्द की जांच – Diagnosis  of Knee Pain in Hindi

  1. इमेजिंग टेस्ट (Imaging Test)
  2. लैब टेस्ट (Lab Test)
  • इमेजिंग टेस्ट (Imaging test) – इमेजिंग टेस्ट में डॉक्टर तीन तरीकों से घुटनों की जांच कर सकता है।
    • एक्स-रे (X-Ray)
    • सी.टी स्कैन (CT Scan)
    • एमआरआई (MRI)
  • लैब टेस्ट (Lab Test) – इस प्रकार के टेस्ट में डॉक्टर आपके घुटने में सुई चुभाकर ब्लड (Blood) निकालता है और उसका लैब (Lab) में परीक्षण करता है।

घुटनों में दर्द के रिस्क – Risks of Knee Pain in Hindi

अगर घुटनों में अक्सर दर्द होता है तो उसे हल्के में नहीं लेना चाहिए। अगर समय रहते जांच नहीं कराई जाए और उचित इलाज नहीं किया जाए तो यह दर्द कई बीमारियों का रूप धारण कर सकता है और व्यक्ति को विकलांग बना सकता है।

घुटनों के दर्द में क्या नहीं खाएं – What not to eat in knee pain in Hindi

  • टमाटर का सेवन नहीं करना चाहिए, टमाटर में यूरिक एसिड की भरपूर मात्रा पाई जाती है जो दर्द को और भी तीव्र कर सकती है
  • सोडा नहीं पीएं, सोडा में शक्कर की अधिक मात्रा होती है जो शरीर में साइटोकिन्स (cytokines) रिलीज करता है जिससे दर्द और भी ज्यादा हो जाता है
  • अंडे की जर्दी, मीट, फ्राई फूड (Fry Food), कॉर्न (Corn), सोयाबीन आदि कई आहार में ओमेगा-6 फैटी एसिड (Omega-6 Fatty Acid) भरपूर मात्रा में होती है जो जोड़ो में दर्द को बढ़ावा देती है

घुटनों के दर्द में क्या खाना चाहिए – What to eat in knee pain in Hindi

    • पानी में एप्पल साइडर विनेगर (Apple Cider Vinegar) मिलाकर पीना चाहिए इससे दर्द कम होता है
    • प्याज और लहसुन का सेवन दर्द को दूर करने में मदद करता है
    • खाने में अदरक शामिल करें

निष्कर्ष – Conclusion

घुटनों के दर्द को आम समझना सबसे बड़ी मूर्खता होगी। अगर समय रहते यह दर्द नहीं ठीक किया जाए तो इससे व्यक्ति विकलांगता की स्थिति में पहुँच सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *