pros-and-cons-of-masturbation-in-hindi | Pristyn Care

हस्तमैथुन एक ऐसा विषय है जिसे कोई खुल के बात नहीं करता और यही कारण हमारे दिमाग में शंका का बीज बो देती है। यौन सुख को प्राप्त करने के लिए जब आप अपने गुप्तांगों को उत्तेजित करते हैं तो इसे हस्तमैथुन कहा जाता है। हस्तमैथुन करना यौन सुख को प्राप्त करने का और अपने कामोत्तेजना को शांत करने का सबसे कारगर और स्वस्थ विकल्प है। अगर आप हस्तमैथुन करते है तो आपके मन में एक प्रश्न तो ज़रूर उत्पन्न होता होगा कि क्या हस्तमैथुन से हमारे शरीर पर बुरा असर पड़ता है या नहीं? 

इसी विषय में प्रकाश डालते हुए हम आज जानेंगे हस्तमैथुन से जुड़ी वो सभी बातें जिसे जानना आपको बेहद जरूरी है ताकि आपके मन से हस्तमैथुन को लेकर जो शंका है दूर हो सके।

शारीरिक भूख दो तरह की होती है। एक भोजन की भूख और दूसरी शरीर की भूख जिसे यौन सुख कहना सही होगा। शरीर को स्वस्थ बनाने के लिए हम भोजन ग्रहण करते हैं, ठीक वैसे ही यौन सुख प्राप्त करने के लिए हम शारीरिक संबंध या फिर हस्तमैथुन करते हैं।

आज के युवा

आज के आधुनिक युग में युवाओं में सेक्स के प्रति इतनी जिज्ञासा उत्पन्न हो गई है कि वे सेक्स का सुख प्राप्त करने के लिए हस्तमैथुन का सहारा लेने लगे हैं। हस्तमैथुन जहाँ कामोत्तेजना को शांत करने का कार्य करता है वहीं इसके शारीरिक लाभ और हानि भी देखने को मिल जाते हैं।

अगर आप हस्तमैथुन करते हो तो आपको पता ही होगा कि हस्तमैथुन के दौरान हमारे शरीर में क्या परिवर्तन देखने को मिलता है और इसका एहसास कैसा होता है। जाहिर सी बात है कि हस्तमैथुन करने का एहसास इतना आनंददायक होता है कि हम यौन सुख के चरम सीमा हो प्राप्त करने के लिए अपने गुप्तांगों को बड़ी तेजी से उत्तेजित करते हैं और जब स्खलन होता है तो इससे हमारे शरीर को सेक्स तृप्ति का अनुभव होता है।

अगर हम हस्तमैथुन का सबसे पहला परिणाम जानने की कोशिश करें तो यह होगा कि “हस्तमैथुन के दौरान हमारे शरीर से एक लिक्विड इजेक्ट (Eject) होता है जिसे वीर्य कहते है, जैसे कि ये हमारे शरीर से निकला है तो इसकी पूर्ति करनी भी तो जरूरी है”। इसकी पूर्ति हमारा शरीर कर लेता है। लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखते हुए एक स्वस्थ हस्तमैथुन आपके शरीर पर नकारात्मक प्रभाव नहीं डालता। बस आपको हस्तमैथुन से जुड़े लाभ और हानि के बारे में पता होना चाहिए ताकि आप बिना किसी शंका के हस्तमैथुन का आनंद उठा सकें। तो आइये सबसे पहले जानते हैं हस्तमैथुन करने से हमारे शरीर को क्या-क्या फायदे होते हैं?

हस्तमैथुन करने के फायदे – Benefits of Masturbation in Hindi

हस्तमैथुन एक प्राकृतिक शारीरिक क्रिया है जिसके बहुत से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य लाभ हैं। जैसे-

  • यौन उत्तेजना शांत करना
  • सेक्स संबंध को मजबूत बनाता है
  • आप सेक्स के दौरान शीघ्र स्खलन से राहत
  • मानसिक तनाव कम करता है
  • अच्छी नींद आती है
  • एकाग्रता बढ़ती है
  • शारीरिक पीड़ा कम करता है
  • सेक्स में सुधार

जब हमारे गुप्तांग उत्तेजित होते है और यौन के चरम सुख प्राप्त करने के लिए हम तैयार हो जाते हैं तो उसे शांत करने के दो ही तरीके हैं या तो आप सेक्स करो या तो आप हस्तमैथुन करो। यौन सुख को प्राप्त करने के लिए हम अपने शरीर के गुप्तांगों को सक्रिय कर उसके साथ खेलते है ताकि हमें वो एहसास प्राप्त हो सके जिसके लिए हम लालायित हैं। 

अपने गुप्तांगों के साथ खेलने का आनंद ही हमे हस्तमैथुन करने के लिए प्रेरित करता है। हस्तमैथुन का एहसास जितना आनंददायक है उतना ही इसके लाभ भी हैं, आइये एक-एक करके इसके लाभ पर प्रकाश डालें।

  1. यौन उत्तेजना शांत करना

अगर अपने किसी साथी के साथ शारीरिक संबंध बनाते हैं तो उसके एहसास को हस्तमैथुन के एहसास के साथ तुलना करना संभव नहीं। लेकिन, हाँ! आप अपने यौन उत्तेजना को शांत करने के लिए हस्तमैथुन का सहारा ले सकते हैं, यौन उत्तेजना को शांत करने का सबसे सफल और स्वस्थ उपाय हस्तमैथुन है।

  1. आप सेक्स संबंध को मजबूत बना सकते है

सेक्स के दौरान कई जोड़े एक दूसरे का हस्तमैथुन करते हैं, जिसकी वजह से उनके बीच लगातार यौन सुख का माहौल बना रहता है। अगर आपका साथी आपके चरम सुख हासिल करने के पहले ही स्खलित हो जाता है तो हस्तमैथुन के जरिये आप अपने चरम सुख का आनंद ले सकते हैं।

  1. सेक्स के दौरान शीघ्र स्खलन से राहत

शारीरिक संबंध बनाने से पहले अगर आप हस्तमैथुन करते हैं तो सेक्स के दौरान आप अपने साथी के साथ लंबे समय तक लुफ़्त उठा सकते हैं। अगर आप अपने साथी के साथ लंबे समय तक सेक्स का आनंद उठाना चाहते हो तो सेक्स से पहले हस्तमैथुन करना आपके लिए लाभकारी हो सकता है।

  1. मानसिक तनाव कम करता है

हस्तमैथुन के दौरान आपका मस्तिष्क एक ही दिशा में सोचता है और इसी वजह से आप रिलैक्स अनुभव करते हैं। जब भी हम किसी भी रूप में सेक्स के बारे में सोचते है तो हमारा मस्तिष्क डोपामाइन (Dopamine) नामक रसायन छोड़ता है जो हमें खुशी का अनुभव दिलाता है। यानि, जब-जब आप सेक्स के बारे में सोचते हैं तो आपका मन इसके प्रति सक्रिय हो जाता है और आपको एक अलग खुशी मिलती है। ठीक ऐसे ही जब आप सेक्स या हस्तमैथुन करते हैं तो मस्तिष्क एंडोर्फिन (Endorphins) नमक रसायन छोड़ता है जो हमें तनाव मुक्त करने में कारगर है।

अगर आप तनाव में है तो हस्तमैथुन आपके तनाव को बहुत हद तक कम कर सकता है। लेकिन हाँ, अगर आप हमेशा तनाव में रहते हैं तो अपने तनाव को कम करने के लिए हमेशा हस्तमैथुन का सहारा लेना सही नहीं। इससे आपको इसकी लत लग सकती है और ये आपके शरीर में दूसरी एब्नार्मलिटी को जन्म दे सकता है।

  1. अच्छी नींद आती है

जहाँ एंडोर्फिन (Endorphins) रसायन आपको मानसिक तनाव से निजात दिलाता है वहीं ये ब्लड प्रेशर को कम करके आपके शरीर को शिथिलता प्रदान करता है जिसकी वजह से अच्छी नींद आती है। आप हस्तमैथुन के बाद अच्छी नींद का अनुभव ज़रूर करते होंगे।

  1. एकाग्रता बढ़ती है

हस्तमैथुन से तनाव तो कम होता ही है साथ ही मन को शांति का अनुभव भी होता है जो मस्तिष्क को एकाग्र करने के लिए लाभकारी है।

  1. शारीरिक पीड़ा कम करता है

शारीरिक पीड़ा से राहत दिलाने में हस्तमैथुन एक अच्छा विकल्प हो सकता है। हस्तमैथुन के दौरान हमारा मस्तिष्क सिर्फ कामुकता के सागर में घूमता रहता है और इसी वजह से हमें शारीरिक पीड़ा का अनुभव नहीं होता है।

  1. सेक्स में सुधार

जो व्यक्ति हस्तमैथुन करता है उसके गुप्तांग की संवेदना धीरे-धीरे कम होती जाती है जिसकी वजह से चरम सुख पाने के लिए उसे काफी देर तक हस्तमैथुन करना पड़ता है। अगर वही व्यक्ति अपने साथी के साथ शारीरिक संबंध बनाए तो काफी देर तक काम-क्रिया में व्यस्त रह सकता है।

आपने यह तो जान लिया कि हस्तमैथुन के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं, चलिए अब जानते हैं कि इसके क्या-क्या नुकसान हैं?

हस्तमैथुन के नुकसान – Side effects of Masturbation in Hindi

वैसे तो कोई वैज्ञानिक तथ्य नहीं है जो कहें कि हस्तमैथुन करने से शरीर को कोई नुकसान होता है। लेकिन हाँ, अगर आपको हस्तमैथुन करने की लत लग गई है और आप रोज़ाना हस्तमैथुन करके अपनी कामुक इच्छाओं को शांत करते हैं तो आपको ये ज़रूर जान लेना चाहिये कि इससे आपके शरीर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

जहाँ हस्तमैथुन आपके शरीर के लिए लाभकारी है वहीं अगर हस्तमैथुन नियमित रूप से किया जाए तो यह आपके शरीर का दुश्मन बन सकता है।

नीचे हमने वो सभी बातों बताई है जो अनियमित रूप से हस्तमैथुन करने से होती है।

  • यौन संवेदनशीलता में कमी होना 
  • लिंग या योनि में सूजन 
  • लिंग का टेढ़ा होना
  • खुद के प्रति ग्लानि होना
  • शरीर का कमजोर होना
  • दैनिक जीवन में ख़लल डालता है
  • हस्तमैथुन की लत
  • शुक्राणु की संख्या पर असर
  • पाचन संबंधित शिकायत

हर चीज की एक सीमा होती है अगर आप सीमा पार कर आगे जाते हैं तो वह आपके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। हस्तमैथुन भी इसी का एक अच्छा उदाहरण है, अगर आप निर्धारित रूप से या कभी-कभी हस्तमैथुन करते हैं तो इसकी वजह से आपके शरीर को कोई हानि नहीं पहुँचती है। लेकिन, अगर यही अनियमित रूप से किया जाए तो इसका परिणाम आपके शरीर को भुगतना पड़ सकता है। आइये हस्तमैथुन के नुकसान के बारे में अच्छे से जानते हैं।

  1. यौन संवेदनशीलता में कमी होना

हस्तमैथुन करने के दौरान पुरुष अपने लिंग को पकड़ कर आगे-पीछे करते हैं इससे उनके लिंग पर बार-बार घर्षण (Friction) होने से उसकी संवेदनशीलता धीरे-धीरे कम होने लगती है। ठीक इसी तरह जब महिलाएं हस्तमैथुन करती हैं तो वो अपनी उँगलियों से अपनी योनि के ऊपरी और अंदरूनी हिस्से को जोर-जोर से मसलती हैं और अपनी योनि में उँगलियाँ डाल कर आगे पीछे करती है, जिससे योनि की अंदरूनी संवेदनशील मसल्स अपनी संवेदना धीरे-धीरे खोने लगती है।

ज्यादा हस्तमैथुन आपके गुप्तांगों के संवेदना को कम करता है और यौन सुख प्राप्त करने की चरम सीमा समय को बढ़ाता है। जिसकी योनि संवेदनशील नहीं है उसे सेक्स के दौरान चरम सुख का अनुभव प्राप्त करने के लिए काफी समय लगता है।

  1. लिंग या योनि में सूजन

अत्यधिक हस्तमैथुन आपके लिंग/योनि में सूजन ला सकता है। हस्तमैथुन के दौरान हमारे गुप्तांगों में रक्त का दवाब अधिक होने के कारण वो सख्त़ हो जाते हैं और जब स्खलन के चरम सुख  को पाने के लिए जोर-जोर से अपने गुप्तांगों को मसलते हैं तो उसमे सूजन आ जाता है।

  1. लिंग का टेढ़ा होना

अगर आप हद से ज्यादा हस्तमैथुन करते है वो भी अपने एक ही हाथ से तो आपका लिंग एक तरफ से टेढ़ा हो जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आप हस्तमैथुन के दौरान अपने लिंग को एक दिशा प्रदान करते हैं, जिसकी वजह से वो एक तरफ से मुड़ जाता है। आपका लिंग टेढ़ा न हो इसके लिए आपको हस्तमैथुन के दौरान बारी-बारी से अपने दोनों हाथों का प्रयोग करना चाहिए।

  1. खुद के प्रति ग्लानि होना

कामोत्तेजना के चरम सुख को प्राप्त करने के लिए हमारा मन हमें हस्तमैथुन करने के लिए प्रेरित करता है। हस्तमैथुन जहाँ आपके शरीर को कामुक सुख प्रदान करता है वहीं अनियमित हस्तमैथुन के बाद थोड़ी ग्लानि भी महसूस होती है। अगर आप हमेशा हस्तमैथुन करते हैं तो इस प्रकार की मानसिकता स्वाभाविक है। असमय हस्तमैथुन करने से मानसिक रूप से हमें बुरा महसूस होता है।

  1. शरीर का कमजोर होना

ऐसा कोई तथ्य नहीं कि हस्तमैथुन करने से शरीर पे कोई नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, लेकिन अगर आप असमय हस्तमैथुन करते हैं और आपका खान-पान सही नहीं है तो इसकी वजह से आपका शरीर कमजोर हो सकता है। हस्तमैथुन करने के बाद हमारे शरीर से जो वीर्य बहार निकलता है उसकी पूर्ति शरीर खुद करता है। लेकिन अगर आपका खान-पान सही नहीं है तो वीर्य की पूर्ति कैसे होगी? वीर्य की पूर्ति के लिए आपका आहार सही होना चाहिए नहीं तो शरीर को कमजोर होते देर नहीं लगती।

  1. दैनिक जीवन में ख़लल डालता है

हर समय कामोत्तेजना के सागर में गोते लगाना आपको हस्तमैथुन करने के लिए प्रेरित करता है। अगर आप हर समय सेक्स के बारे में, ब्लू फ़िल्में, एडल्ट मैगजीन (Adult Magazine) पर ज्यादा ध्यान देते हैं तो इसकी वजह से पूरे दिन आपके मन में सेक्स और हस्तमैथुन का ख़याल ही रहता है जो आपके दूसरे काम पर बाधा डालता है।

  1. हस्तमैथुन की लत

सेक्स की इच्छा की पूर्ति करने के लिए जरूरी नहीं कि आपको एक साथी की जरूरत पड़े, आप हस्तमैथुन के जरिये भी अपने शारीरिक भूख को शांत कर सकते हैं। लेकिन, सेक्स से संबंधित सभी पहलुओं को अपने निजी जीवन में शामिल कर लेना सही नहीं। जहाँ हस्तमैथुन आपके गुप्तांगों को सुख देने का काम करता है वहीं यह सुख आपके लिए एक लत बन सकता है। हस्तमैथुन की लत का यही मतलब है कि आप सेक्स के अलावा कुछ सोचते ही नहीं और आपका मन बस सेक्स पर ही केन्द्रित रहता है, जिसकी वजह से आप अपने किसी भी कार्य को एकाग्र मन से नहीं कर पाते हैं।

  1. शुक्राणु की संख्या पर असर

हस्तमैथुन के सुख को प्राप्त करने के लिए हम अपने वीर्य को स्खलित (Ejaculate) करते हैं जिसकी पूर्ति शरीर कर लेता है। बार-बार हस्तमैथुन करने से शरीर उसकी पूर्ति बार-बार करता है और धीरे-धीरे वीर्य की पूर्ति करने की काबिलीयत नष्ट हो जाती है, जिसकी वजह वीर्य में मौजूद शुक्राणुओं की संख्या पर इसका बुरा असर पड़ता है।

  1. पाचन संबंधित शिकायत

भोजन के तुरंत बाद हस्तमैथुन आपके पाचन क्रिया में बाधा डाल सकता है। अगर आपने अभी-अभी खूब सारा भोजन किया है और भोजन करने के तुरंत बाद हस्तमैथुन करने लग गए तो आपका शरीर भोजन को पचाने के बजाय आपके यौन सुख को पूरा करने में लग जाता है, जिसकी वजह से आपकी पाचन क्रिया प्रभावित होती है। इसलिए भोजन के तुरंत बाद हस्तमैथुन करना सही नहीं है।

हस्तमैथुन कितनी मात्रा में करें? what is the ideal amount of Masturbation in Hindi?

इस प्रश्न का उत्तर इस बात पर निर्भर करता है कि आपकी हेल्थ कैसी है। कई लोग हर रोज हस्तमैथुन कर सकते हैं लेकिन, कई लोग हफ्ते में एक बार ही करते हैं। इसलिए, आप अपने समय और स्वास्थ्य का ख़याल रखते हुए ही हस्तमैथुन करें। देखा जाए तो हफ्ते में एक या दो बार हस्तमैथुन करना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है और शरीर में इसका कोई दुष्प्रभाव भी नहीं होता है।

निष्कर्ष – Conclusion

आज आपने हस्तमैथुन से जुड़ी उन सभी बातों को जान लिया है जो आपके शरीर को लाभ और नुकसान दे सकते हैं। इसलिए, हस्तमैथुन स्वास्थ्य के लिए फ़ायदेमंद तो है लेकिन, बस शर्त इतनी सी है कि आप इसकी लत का शिकार न हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *