तेजी से घटाएं अपना वज़न

मोटापे से छुटकारा पाना बहुत बड़ी चुनौती होती है लेकिन, एक बेहतर स्वास्थ्य के लिए यह बहुत आवश्यक होता है। मोटापा से छुटकारा पा लेना बिल्कुल भी आसान नहीं है। अगर भोजन में कमी कर देना और एक-दो घंटे के नियमित व्यायाम से ही मोटापे से छुटकारा मिल जाता तो आज हर कोई स्लिम और फिट होता। मोटापा कम करने के लिए डाइट में तो विशेष ध्यान देना ही होता है इसके अलावा हमें अपनी लाइफ स्टाइल में भी कई बदलाव लाने पड़ते हैं।

मोटापे की समस्या ना केवल आपके लुक को बुरी तरीके से प्रभावित करती है बल्कि यह अन्य बीमारियों से आपकी दोस्ती भी करा सकती है। 

बुजुर्ग  के अलावा हमारी युवा पीढ़ी भी मोटापे का शिकार हो रही है। 2013 की एक स्वास्थ्य रिपोर्ट के मुताबिक विश्व भर में 2 बिलियन से ज्यादा युवाओं को ज्यादा वजन होने की शिकायत है और इनमें से 31% भारी मोटापे से ग्रसित हैं। 

अगर हम आज से ही बढ़ते हुए वजन को लेकर सजगता नहीं दिखाएंगे तो बाद में हमें लीवर प्रॉब्लम (Liver problem), हार्ट प्रॉब्लम (Heart problem), ब्लड प्रेशर (Blood pressure) जैसी गंभीर समस्याएँ हो सकती हैं। बुजुर्गों के साथ-साथ युवाओं के हड्डियों में उत्पन्न हो रहे दर्द का एक बड़ा कारण मोटापा ही है। तो चलिए जानते हैं कि किस तरह आप अपने मोटापे को आसानी से कम कर सकते हैं।

 एक नजर

  • मोटापा की वजह से शरीर में और भी कई बीमारियों का जन्म हो जाता है।
  • अगर घरेलू इलाज से राहत नहीं मिलती है तो डॉक्टर मोटापे का ट्रीटमेंट सर्जरी के जरिये करते हैं।
  • एक फिट वजन के लिए दिन में 5 से 6 लीटर पानी पीना चाहिए। 

मोटापा बढ़ने का कारण: Causes of Obesity

  • उर्जा की खपत नहीं होने पर – Low consumption of Energy

Getting Fat

अगर साइंटिफिक (Scientific) तौर पर बात करें तो व्यक्ति मोटापे का शिकार तब होता हैं जब वह भोजन से मिलने वाली ऊर्जा का ठीक तरीके से उपयोग नहीं कर पाता है। खाने के माध्यम से हमें एनर्जी मिलती है और इस एनर्जी को हम उपयोग में लाते हैं। जब एनर्जी का सेवन बहुत ज्यादा और खर्च कम होता है तब मोटापे की समस्या उत्पन्न होती है।

अगर आप रोजाना अधिक चर्बी युक्त भोजन का सेवन करते हैं तो यह मोटापे को जन्म दे सकता है।

  • शरीर का क्रियाशील न होना- Non functional body

Non Functional Body

नियमित रूप से व्यायाम न करना भी मोटापे का एक प्रमुख कारण है। जब हमारे शरीर का कोई भी अभी स्थिर रह जाता है तब वहां चर्बी जमा होने लगती है इसलिए शरीर के प्रत्येक अंग का क्रियाशील रहना जरूरी है। इसके अलावा खाना खाने के तुरंत बाद सोने की आदत डालना गलत है क्योंकि इससे मोटापा बढ़ता है। 

  • नींद में हस्तक्षेप – Sleep interference

Sleep interference

कम नींद या फिर अधिक नींद लेना भी मोटापे का कारण है। वास्तव में, जब आप 7 से 8 घंटे से कम सोते हैं तो शरीर चर्बी को अच्छी तरह से बर्न नहीं कर पाता है वहीं इससे अधिक सोना भी नुकसानदायक है।

  • दवा का सेवन – Drugs consumption

Drugs consumption

कुछ ऐसे रोग भी होते हैं जिनके उपचार के दौरान मोटापा बढ़ने की समस्या होती है। आमतौर पर यह मोटापे का कारण नहीं होते लेकिन इनके उपचार के दौरान इस्तेमाल में लाई जाने वाली दवाओं से शरीर का मोटापा बढ़ जाता है।

  • अनुवांशिक कारण – Genetical Causes

Genetic Changes

कई बार आपके दुबलापन और मोटे होने का कारण आनुवंशिकता भी हो सकती है। हालांकि मोटापे का यह कारण बहुत कम देखने को मिलता है।

  • गर्भावस्था – Pregnancy

Pregnancy fat

 गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में वजन बढ़ने की शिकायत है देखने को मिलती है। हालांकि, शिशु के जन्म लेने के बाद आसानी से वजन को कम किया जा सकता है।

  • उम्र बढ़ने पर – Getting older

Getting old and fat

आमतौर पर वजन बढ़ने का कोई भी उम्र नहीं होता है लेकिन जब हम अधिक उम्र के होने लगते हैं तब हार्मोनल (Harmonal) बदलाव और शारीरिक सक्रियता में कमी के कारण वजन बढ़ने लगता है। 

  • लिक्विड एनर्जी के सेवन से – Intake of liquid energy

Cold Drink

लिक्विड इनर्जी (Liquid energy) का सेवन वजन बढ़ने का एक प्रमुख कारण है। सॉफ्ट ड्रिंक्स (Soft drinks), चॉकलेट मिल्क (Chocolate milk) जैसे अन्य तरल पदार्थों का सेवन करने से वजन तेजी से बढ़ता है। इसलिए ऐसे तरल पदार्थों को बिल्कुल न पीयें जिनमें भारी मात्रा में कैलोरी (Calorie) पाई जाती हो।

मोटापा बढ़ने के लक्षण: Symptoms of Obesity

Obesity

जब शरीर में मोटापा बढ़ने लगता है तब शरीर में कई तरह के बदलाव देखने को मिलते हैं। 

  • सोते वक्त खर्राटे लेना
  • पसीना अधिक निकलना
  • सांस फूलना
  • स्फूर्ति भरे कार्यों को करने में परेशानी
  • थकान महसूस होती है

मोटापा कम करने के लिए डाइट – Diet to reduce obesity

  • सुबह-सुबह नींबू पानी – Drink lemon juice in early morning

मोटापे को खत्म करने के लिए सुबह उठते ही आपको शुरुआत नींबू पानी से करनी होगी। खाली पेट नींबू पानी पीने से चर्बी जलाने में मदद होगी और इसमें मौजूद विटामिन सी रोगों से लड़ने की शक्ति को भी बढ़ाएगा। नींबू पानी पीने से डायबिटीज़ में भी फायदा मिलता है तथा यह लीवर के लिए भी स्वास्थ्यवर्धक है।

  • मोटापा कम करने के लिए ऐसा होना चाहिए नाश्ता – Breakfast should be like this to reduce obesity 

नींबू पानी पीने के करीब दो से ढाई घंटे बाद आपको नाश्ता करना है। आपका नाश्ता पोषक तत्वों से भरपूर होना चाहिए। हलके-फुलके चीजों का सेवन केवल वजन को बढ़ाता है। नाश्ता ऐसा होना चाहिए जिसमें सभी पोषक तत्व समाए हो, इससे चर्बी में कमी आएगी और जरूरी पोषण भी मिल जाएगा।

नाश्ता में आप उबली हुई सब्जियां, उबले हुए अंडे या फिर चुकंदर और टमाटर के सलाद को प्रयोग में ला सकते हैं। नाश्ता में तली-भुनी हुई चीजें बिल्कुल न खाएं, बल्कि उबालकर खाना फायदेमंद रहेगा। 

  • मोटापा कम करने के लिए नाश्ते के बाद क्या खाएं – What to eat after breakfast to reduce obesity

नाश्ता करने के ढाई घंटे बाद आपको पेय पदार्थ का सेवन करना है। आप ग्रीन टी या फिर नारियल के पानी का सेवन कर सकते हैं। ग्रीन टी के सेवन से शरीर में जरूरी एंटीऑक्सीडेंट्स (Antioxidants) की भरपाई हो जाती है और नारियल पानी का सेवन मेटाबॉलिज्म रेट (Metabolism rate) को हाई कर देता है जिससे चर्बी जलाने में आसानी होती है। इसके अलावा नारियल पानी के सेवन से रक्त चाप भी सामान्य रहता है।

  • मोटापा कम करने के खातिर कैसा हो लंच – How to have lunch for reducing obesity

दोपहर करीब 2:00 या 2:30 बजे आपको भोजन करना है। भोजन में रोटी सब्जी दाल और सलाद को शामिल कर सकते हैं। इस दौरान अगर आप चोकर युक्त रोटी खाते हैं तो यह अधिक फायदेमंद रहेगा।

कम तेल में पकी हुई हरी पत्तेदार सब्जियां अवश्य खाएं। अगर आपको दोपहर ज्यादा भूख लगती है तो सलाद एक अच्छा विकल्प हो सकता है। टमाटर, खीरा, मूली, गाजर आदि का कम सेवन करने से ही भूख दूर हो जाती है। इनमें भारी मात्रा में फाइबर मौजूद होते हैं जो भूख शांत रखने के अलावा शरीर में फाइबर की कमी को भी दूर करते हैं।

अगर आप दोपहर के भोजन में चावल खाते हैं तो ब्राउन राइस ट्राई करिए। ब्राउन राइस का कम मात्रा में सेवन भूख को बढ़ने नहीं देता और यह पाचन भी दुरुस्त रखता है। 

  • वजन घटाने और मोटापा कम करने के लिए शाम को क्या खाएं – What to eat in the evening to lose weight and reduce obesity 

दोपहर के भोजन के बाद शाम को कुछ हल्का-फुल्का खाने की जरूरत है। शाम के वक्त ज्यादा भूख नहीं लगती इसलिए आप फलों का सेवन कर सकते हैं या फिर बेक्ड (Baked) चना खा सकते हैं।

  • मोटापा कम करने के खातिर कैसा हो रात का खाना – How to have dinner for reducing obesity

रात के खाने में आपको कम कैलोरी युक्त भोजन करना है। कुछ लोग नाश्ता बहुत कम करते हैं और रात को भारी मात्रा में भोजन कर लेते हैं, यह भी वजन को बढ़ावा देता है। रात के खाने में दाल-रोटी या फिर कुछ हरी सब्जियां खा सकते हैं।

ऊपर बताए गए डाइट के अंतराल में पानी का भरपूर सेवन आपको करते रहना है। पानी का अधिक सेवन पेट में जमा अतिरिक्त चर्बी को कम करने में मददगार साबित होता है।  दिन भर में 5 से 6 लीटर पानी अवश्य पीयें, इससे शरीर और दिमाग दोनों फ्रेश रहेगा। अगर वजन कम करना है तो चाय का सेवन बंद करना होगा।  कैफीन युक्त भोजन से वजन कम करने में मदद मिलती है लेकिन, यह उच्च रक्तचाप, तथा तनाव की स्थिति उत्पन्न करता है। वजन कम करने के लिए एक बेहतर नींद की आवश्यकता होती है जबकि, कैफीन (Caffeine) का सेवन अनिद्रा को जन्म देता है। 

मोटापा कम करने के 10 घरेलू उपाय – Top 10 home remedies to reduce obesity

  1. खीरे का सेवन ख़त्म करता है मोटापा – Consumption of cucumbers ends obesity

cucumbers

रोजाना खीरे या फिर तरबूज के सेवन से आप वजन में कमी ला सकते हैं। इन दोनों फलों में 90% से अधिक पानी ही होता है साथ ही यह पौष्टिक भी होते हैं।

अगर आप खीरे का सूप बनाकर पीते हैं तो यह आपके वजन को तेजी से कम कर सकेगा। खीरे का सूप बनाने के लिए खीरे को छील कर उसको ग्राइंड कर लें। अब इसमें एक चम्मच दही और एक चम्मच नींबू मिला लें। अपने स्वादानुसार काला नमक डाल सकते हैं। अब इस सूप को रोजाना सुबह पीयें।

  1. नीबू और शहद  का मिश्रण से कम करें अपना मोटापा – Reduce obesity by mixing lemon and honey

Lemon And honey

 कुछ मात्रा में चर्बी जलाने के लिए आप नींबू और शहद का प्रयोग कर सकते हैं। नींबू और शहद के घोल को गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से थोड़ी बहुत चर्बी आसानी से जलाई जा सकती है।

  1. अजवाइन का पानी से पाएं मोटापे से छुटकारा – Get rid of obesity with celery water

  2. celery water

रात को सोने से पहले पानी में अजवाइन भिगोकर रख दें और सुबह छानकर पानी का सेवन करें। इससे तेजी से वजन कम होता है। अजवाइन का सेवन मेटाबॉलिजम रेट (Metabolism rate)  को बढ़ा देता है जिससे आसानी से कैलोरी बर्न (Burn) होने लगती है।

  1. कुछ स्पेशल चाय करेंगी मोटापे का इलाज – Some special tea will treat obesity

special tea

ब्लैक टी, ग्रीन टी या फिर नींबू की चाय का सेवन करने से वजन में कमी आती है। यह चाय आपके लिए तभी फायदेमंद रहेगी जब इसमें चीनी और दूध न डला हो और चाय पूरी तरह से शुद्ध हो। 

  1. सूखे अंजीर कम करते हैं मोटापा – Dried figs reduce obesity

Dried figs

सूखे हुए अंजीर के 5 से 6 दाने रात को सोते वक्त सेब के सिरके में डाल दें। सुबह उठकर ठीक तरह से दानों को चबाएं। इससे आसानी से वजन कम किया जा सकता है और आपका मोटा शरीर फिट हो सकता है।

  1. चीनी का सेवन बिलकुल भी न करें – Do not consume sugar at all 

Sugar intake

वजन कम करना चाहते हैं तो चीनी का सेवन ना के बराबर करें। चीनी में भारी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है जो फैट को बढ़ाने का कार्य करता है। चीनी के सेवन से डायबिटीज की समस्या भी हो सकती है। 

  1. पत्ता गोभी से कम करें मोटापा – Reduce obesity with cabbage

Cabbage

वजन कम करने के लिए पत्ता गोभी का इस्तेमाल भी किया जाता है। पत्ता गोभी में कार्बोहाइड्रेट बहुत कम मात्रा में पाया जाता है। पत्ता गोभी फाइबर युक्त होती है जो भूख को शांत रखने के साथ-साथ चर्बी भी जलाती है। इसलिए रात के भोजन में सब्जी के तौर पर पत्ता गोभी का सेवन किया जा सकता है। पत्ता गोभी का सूप पीने से भी वजन कम करने में मदद मिलती है।

  1. कच्चे गाजर का सूप से दूर करें मोटापा – Remove obesity with raw carrot soup

Raw carrot juice

कच्चे गाजर का सेवन या फिर गाजर का सूप वजन कम करने में मददगार साबित होता है। गाजर में कैलोरी बहुत कम मात्रा में पाई जाती है तथा इसका सेवन वजन कम करने के अलावा रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। गाजर के सेवन से पाचन भी बेहतर बनता है। 

  1. मोटापा कम करने का उपाय है एलोवेरा – Aloe vera is the way to reduce obesity

Aloevera

एलोवेरा शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाकर वजन कम करने में आपकी मदद करता है। इसे इस्तेमाल करने के लिए आप एलोवेरा की लुगदी निकाल कर उसे अच्छी तरह से ग्राइंड कर लें। उसमे एक चम्मच नीबू का रस मिलाकर इसका सेवन करे। अगर आप इस मिश्रण का सेवन लगातार एक से डेढ़ माह तक करते हैं तो इससे आपका मोटापा काफी हद तक कम हो सकता है।

  1. मोटापा कम करने की विधि है सौंफ – Anise is a method to reduce obesity

Anise

सौंफ के सेवन से भी मोटापे को काफी हद तक कम किया जा सकता है। अगर आप इसका इस्तेमाल मोटापे को कम करने के लिए करना चाहते हैं तो इसे तवे पर अच्छी तरह से  भुन लें। अब इसका पाउडर बनाकर एक चम्मच पाउडर एक गिलास गरम पानी में मिलाकर पीयें। इससे कुछ ही दिनों में आपके शरीर का मोटापा काफी हद तक गायब हो जाएगा। 

मोटापा कम करने के लिए कुछ सरल एक्सरसाइज – Some simple exercises to reduce obesity

कार्डियो एक्सरसाइज करके आप अपने वजन को तेजी से कम कर सकते हैं। इस तरह की एक्सरसाइज करने से चर्बी तेजी से जलती है। कार्डियो (cardio) एक्सरसाइज में जॉगिंग (Jogging), रनिंग, साईकल चलाना, रस्सी कूदना, आदि शामिल हैं। कार्डियो एक्सरसाइज ह्रदय के लिए भी बहुत फायदेमंद है। कैलोरी (Calorie) बर्न (Burn) करने के लिए हर एक-दो घंटे में चलते रहना चाहिए। ज्यादा देर तक बैठे रहने से कैलोरी को नहीं जलाया जा सकता चाहे आप कुछ भी खा लें। 

मोटापा के रिस्क – Risks of obesity

  • हृदय रोग
  • उच्च रक्तचाप (High blood pressure)
  • डायबिटीज
  • श्वास सम्बन्धी समस्याएं
  • इर्रेगुलर पीरियड्स

गैस्ट्रिक बाईपास सर्जरी के जरिए करते हैं इलाज

इस सर्जरी को करने के बाद आपकी छोटी आंत Nutrients की कम मात्रा अवशोषित करेगी जिससे आपके शरीर को कम कैलोरी प्राप्त होगी और आपका वजन कम हो जाएगा।

इस सर्जरी को सर्जन दो स्टेप में पूरा करता है।

  1.   सर्जन आपके पेट का दो हिस्सा बनाता है। पहला ऊपरी हिस्सा छोटे आकार का होता है जिसे पाउच (Pouch) कहा जाता है और दूसरे हिस्से का आकार बड़ा होता है। आप जो खाएंगे वह पाउच में जाएगा। जैसा, कि यह एक छोटे आकार का होता है इसलिए, आप कम खाएंगे।
  2.   अब सेकंड स्टेप बाईपास का है। इसमें आपका सर्जन आपकी छोटी आंत के एक छोटे हिस्से (the jejunum) को पाउच के एक छोटे से छेंद से जोड़ता है। अब आपके द्वारा खाया गया भोजन पाउच से छोटी आंत में जाएगा। जैसा कि आप कम खाएंगे तो छोटी आंत nutrients को भी कम मात्रा में अवशोषित करेगी जिससे आपका वजन बहुत जल्दी कम हो जाएगा।

गैस्ट्रिक बाईपास करने के दो तरीके हैं। पहला- ओपन सर्जरी, जिसमें सर्जन आपके पेट पर एक बड़ा सा कट करता है और फिर आगे की प्रक्रिया पूरी करता है।

गैस्ट्रिक बाईपास करने के लिए एक दूसरा तरीका भी है जिसमें एक छोटे से कैमरे की मदद से पूरी सर्जरी की जाती है जिसे ‘laparoscope’ कहा जाता है। इसलिए, इस सर्जरी को लेप्रोस्कोपी भी कहा जाता है।

लेप्रोस्कोपी सर्जरी के जरिये गैस्ट्रिक बाईपास के फायदे:

  1.   अस्पताल में कम समय रहना।
  2.   जल्दी ठीक हो जाना।
  3.   कम दर्द।
  4.   सर्जरी के बाद बहुत बड़े निशान नहीं रहते।
  5.   हर्निया या अन्य संक्रमण होने का खतरा नहीं रहता है।

सर्जरी के जरिये मोटापा का उपचार – Treatment of obesity through surgery

पहले तो आपको इन घरेलू उपाय और डाइट में बदलाव लाकर मोटापे को कम करने की कोशिश करनी चाहिए लेकिन, अगर फिर भी आपका मोटापा कम नहीं होता है तो डॉक्टर आपको सर्जरी के जरिये मोटापा कम करने की सलाह देगा।

मोटापा कम करने के लिए गैस्ट्रिक बाईपास (Gastric Bypass), स्लीव गेस्ट्रोक्टॉमी (Sleeve Gastrectomy), गैस्ट्रिक बैंड्स (Gastric Bands), और मिनी गैस्ट्रिक बाईपास (Mini Gastric bypass) जैसे कई सर्जरी Available हैं।

अगर बात करें कि मोटापा कम करने के लिए सर्जरी कराने का सबसे बेहतर अस्पताल कौन सा  है? तो इसका उत्तर “Pristyn Care” है। 

आखिर मोटापे की सर्जरी के लिए ‘Pristyn Care ही क्यों?

प्रशिक्षित डॉक्टर की टीम – मोटापे की सर्जरी करने के लिए हमारे यहां प्रशिक्षित डॉक्टर की टीम है जो मरीज का इलाज पूरी सावधानी और सतर्कता से करती है। 

एडवांसड टेक्नोलॉजी से होता है इलाज- Pristyn Care मरीज का इलाज, नवीनतम और एडवांसड टेक्नोलॉजी (Advanced technology) की मदद से करता है। इससे मरीज को यह फायदा होता है कि उसे इलाज के दौरान भारी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता है और इलाज के बाद स्वस्थ होने में ज्यादा समय नहीं लगता है।

अपने शहर में करा सकते हैं इलाज- अपने मरीजों का ख़याल रखते हुए हमने कई जगह अपनी डॉक्टर की टीम तैयार की है। हमारे डॉक्टर्स 10 से ज्यादा शहरों में मौजूद हैं।

फ्री फॉलो अप- हम अपने मरीज को फ्री फॉलो अप (Follow up) की सुविधा भी प्रदान करते हैं। इसके साथ मरीज के आने जाने का खर्चा भी हमारा अस्पताल  उठाता है।

इंश्योरेंस की सुविधा- हमारे पास इंश्योरेंस (Insurance) की भी टीम है जिसकी मदद से आप अपना इलाज 100% की छूट पर करा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *