बवासीर का इलाज के लिए हल्दी

बवासीर तब होता है जब गुदा की स्फिंकटर मसल्स और नसों में सूजन आ जाता है। दुर्भाग्यवश भारत में यह बीमारी लगातार बढ़ती जा रही है। इसे अनुपचारित छोड़ देने पर मलत्याग के दौरान होने वाला दर्द असहनीय होता है और गुदा मार्ग में जलन होती है। बवासीर कई कारणों से होता है: आहार में अपर्याप्त फाइबर, शौचालय में बहुत देर तक बैठना, मल का त्याग करते समय प्रेशर लगाना, मोटापा आदि इस बीमारी को जन्म देते हैं।

पढ़ें- बवासीर में आराम से सोने की पोजीशन

अगर बवासीर को हमेशा के लिए खत्म करना है तो इसका उपचार सर्जरी है। लेकिन, जब तक सर्जरी नहीं होती है तब तक इसकी असहनीय पीड़ा को कम करने के लिए कई घरेलू नुस्खे इस्तेमाल किये जा सकते हैं। उन्हीं घरेलू नुस्खों में से बवासीर का इलाज के लिए हल्दी भी इस्तेमाल होती है।

पढ़ें- बवासीर का तीन दिन में जड़ से इलाज

बवासीर में हल्दी का इस्तेमाल कैसे करें? – How to use Turmeric for piles in Hindi?

पाइल्स के दर्द और जलन को कम करने के लिए हल्दी को कई तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। आइये जानते हैं- 

हल्दी और एलोवेरा जेल का पेस्ट

बवासीर के लिए एलोवेरा बहुत फायदेमंद हैं। लेकिन, इसका इस्तेमाल हल्दी के साथ पेस्ट बनाकर भी किया जा सकता है। यह बवासीर की क्रीम की तरह काम करेगा और बवासीर के दर्द और जलन को दूर करने के साथ-साथ मस्सों का सूजन कम करके उन्हें सिकोड़ने में मदद करेगा।

हल्दी से बवासीर का इलाज इन हिंदी- एक चम्मच एलोवेरा जेल को आधा चम्मच हल्दी पाउडर के साथ मिलाकर एक पेस्ट तैयार करें। इस पेस्ट को रात में सोने से पहले मस्सों पर लगाएं। एलोवेरा की सूथिंग प्रॉपर्टी जलन कम करेगी और हल्दी में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुण सूजन कम करके संक्रमण के खतरे को कम करेंगे। आप इस पेस्ट को दिन में तीन बार लगा सकते हैं।

हल्दी और घी

जख्म के जलन को कम करने के लिए घी का इस्तेमाल सदियों से हो रहा है। हल्दी के साथ घी का मिश्रण एक नए औषधि को जन्म देता है। यह औषधि बवासीर के दर्द और जलन को कम करने के लिए बहुत कारगर होती है। घी की चिकनाई खुजली दूर करती है और दर्द कम करने में मदद करती है।

पढ़ें- बवासीर की एनोवेट क्रीम

आधा चम्मच हल्दी एक चम्मच घी के साथ मिलाकर पेस्ट तैयार करें। इस पेस्ट को अच्छी तरह उँगलियों से फेंट लें और आहिस्ता-आहिस्ता गुदा मार्ग में उपस्थित मस्सों पर लगाएं। यह नुस्खा आप दिन में तीन बार उपयोग करें। रात में अच्छी नींद के लिए इस आयुर्वेदिक लेप को जरूर लगाएं।

हल्दी और पेट्रोलियम जेली

बवासीर के दर्द का एक कारण गुदा क्षेत्र में तनाव की स्थिति भी है। पेट्रोलियम जेली या वैसलीन इस दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं। लेकिन, इस सफल प्रयोग में आपको अच्छी गुणवत्ता का पेट्रोलियम जेली इस्तेमाल करना है। 

आधा चम्मच हल्दी और एक चम्मच पेट्रोलियम जेली को अच्छी तरह से मिला लें और तैयार हो चुके लेप को मस्सों के ऊपर लगाएं।

पढ़ें- बवासीर के लिए फल

हल्दी और नारियल का तेल

नारियल के तेल में एंटी-सेप्टिक गुण होते हैं तो इन्फेक्शन से लड़ने में सहायक होते हैं। हल्दी की एंटी-बैक्टीरियल प्रॉपर्टी के साथ मिलकर बवासीर को मात देने में नारियल का तेल एक अहम भूमिका निभा सकता है।

नारियल के तेल और हल्दी को मिलाकर पेस्ट तैयार करें और प्रभावित जगह पर उँगलियों से लेप की तरह लगाएं।

हल्दी के अन्य फायदे – Other Benefits of Turmeric in Hindi

बवासीर में दर्द और जलन को कम करने के साथ-साथ हल्दी के और भी कई शारीरिक फायदे देखे जा सकते हैं, जैसे-

  • एक रिसर्च के मुताबिक़ हल्दी का एक चम्मच सेवन हृदय से जुड़ी कई समस्याओं का समूल नाश कर सकता है।
  • हल्दी में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टी कैंसर से बचाव कर सकती है।
  • शरीर में शुगर के स्तर को नियंत्रित करके डायबिटीज से बचाव करता है।
  • हल्दी का सेवन अल्जाइमर के खतरे को कम करता है।
  • सूजन दूर करने के लिए हल्दी और सरसों के तेल को गुनगुना करके सूजन वाली जगह पर लगाएं।
  • अल्जाइमर से बचाने के अलावा यह डिप्रेशन को दूर करने में भी फायदेमंद है।
  • यह शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाने का काम करता है और खाँसी, जुकाम आदि में फायदेमंद है।
  • इसमें मौजूद एंटी-एजिंग प्रॉपर्टी चेहरे में निखार लाता है।

पढ़ें- बवासीर में क्या खाएं और क्या नहीं

हल्दी के नुकसान – Side-effects of Turmeric in Hemorrhoids in Hindi

आमतौर पर हल्दी के सेवन से गंभीर साइड-इफेक्ट्स नहीं होते हैं। हालांकि, कुछ सामान्य साइड-इफ़ेक्ट जैसे- अपसेट पेट, मतली, चक्कर आना, या दस्त हो सकता है लेकिन, यह तभी होता है जब आप जरूरत से अधिक हल्दी का सेवन करते हैं।

निष्कर्ष

बवासीर के दर्द और जलन को दूर करने के लिए हल्दी एक अच्छी औषधि है लेकिन, इससे बवासीर को हमेशा के लिए ठीक नहीं किया जा सकता है। अगर आप बवासीर को हमेशा के लिए ठीक करना चाहते हैं तो लेजर सर्जरी अच्छा आप्शन है। Pristyn Care में बवासीर की लेजर सर्जरी अनुभवी सर्जन और एडवांस उपकरण की मदद से होती है।

डिस्क्लेमर: यह ब्लॉग सामान्य जानकारी के लिए लिखा गया है| अगर आप किसी बीमारी से ग्रसित हैं तो कृपया डॉक्टर से परामर्श जरूर लें और डॉक्टर के सुझावों के आधार पर ही कोई निर्णय लें|

Pristyn Care Provides Best Piles Treatment in:
आगराचेन्नईइंदौरलुधियाना
बैंगलोरदिल्लीजयपुरमुंबई
भोपालगुड़गांवकानपुरनागपुर
भुवनेश्वरग्वालियरकोलकातापटना
चंडीगढ़हैदराबादलखनऊपुणे