pregnancy symptoms before missed period in hindi

मुस्कान जानती थी कि पीरियड्स और प्रेग्नेंसी दोनों एक दूसरे से जुड़े हैं। जब महिला के एग से स्पर्म नहीं मिलता (Fertilize) तो एग फुट जाता है, तब ब्लीडिंग होने लगती है, इसे पीरियड्स कहते है। जब एग से स्पर्म मिल जाता है और गर्भ में भ्रूण पहुंच जाता है तो प्रेग्नेंसी हो जाती है। इसलिए नॉर्मली लोग पीरियड्स के मिस होने को ही प्रेग्नेंसी का सबसे उम्दा संकेत मानते हैं। मुस्कान भी पीरियड्स के मिस होने को ही प्रेग्नेंसी का लक्षण मानती थी, लेकिन उसे महसूस हुआ कि इसके और भी लक्षण हो सकते हैं। मुस्कान के मन में ये भी ख्याल आया कि पीरियड्स मिस होने से पहले (pregnancy symptoms before missed period in hindi) कैसे पता कर सकते है कि प्रेग्नेंसी है। इसलिए वह डॉक्टर के पास गई और उनसे पूछा कि पीरियड्स मिस होने के पहले प्रेग्नेंसी के क्या लक्षण (pregnancy symptoms before missed period in hindi) दिखाई दे सकते हैं? 

डॉक्टर ने मुस्कान को बताया कि पीरियड्स का न आना एक तरह से प्रेग्नेंसी का लक्षण हो सकता है। लेकिन ऐसा भी होता है कि पीरियड्स मिस किसी हार्मोन के असंतुलित होने के कारण हो, कभी-कभी तो प्रेग्नेंसी होने पर भी पीरियड्स आ जाते है। इस तरह डॉक्टर ने मुस्कान के वहम को दूर करते हुए बताया कि पीरियड्स मिस होने से पहले भी प्रेग्नेंसी के लक्षण (pregnancy symptoms before missed period in hindi) दिखाई दे सकते हैं, जिसे आप महसूस कर खुद ही घर पर प्रेग्नेंसी किट के जरिए टेस्ट कर या डॉक्टर से जांच कर पुष्टि कर सकती है। 

प्रेग्नेंसी हासिल करने के लिए ओव्यूलेशन का समय सही होता है। जब महिला शरीर में ओव्यूलेशन की प्रक्रिया होती है, तब शारीरिक संबंध बनाने से प्रेग्नेंसी की प्रबल संभावना होती है। ओव्यूलेशन में अंडाशय (Ovary) से एग रिलीज हो कर फैलोपिन ट्यूब में चला जाता है। यहां एग स्पर्म का इंतजार करता है, अगर 12 से 24 घंटे में स्पर्म नहीं मिलता तो एग खत्म हो जाता है। अगर इसे स्पर्म मिल जाता है तो एग स्पर्म से मिल कर (Fertilize) हो कर महिला के गर्भ में भ्रूण को प्रत्यारोपित कर देता है। जब यह प्रक्रिया होती है तो किसी-किसी महिला को भ्रूण प्रत्यारोपण (Embryo transplant) के समय ब्लीडिंग होने लगती है। इसमें थोड़ा बहुत खून या खून के धब्बे भी हो सकते हैं या पीरियड्स जैसी ब्लीडिंग भी हो सकती है। अब मान लीजिए कि ब्लीडिंग नहीं हुई और पीरियड्स मिस होने से पहले आपको जानना हैं कि प्रेग्नेंसी है या नहीं, तब नीचे दिए लक्षणों (pregnancy symptoms before missed period in hindi) के जरिए प्रेग्नेंसी का पता लगा सकते हैं।

प्रत्यारोपण (Transplant), ब्लीडिंग, ऐंठन (spasm)

जब गर्भ में एग फर्टिलाइज हो कर ट्रांसप्लांट करता है तब हल्की ब्लीडिंग होती है। यह प्रेग्नेंसी का शुरूआती लक्षण होता है। फर्टिलाइज एग खुद को यूटेरस की दीवारों से जोड़ता है तब ब्लीडिंग हो सकती है। कुछ महिलाओं को ऐंठन भी होती हैं, जब प्रत्यारोपण (Transplant) के समय मसल्स बहुत काम कर लेती है और इसे आराम नहीं मिलता तब पेट, पैर या हाथ में ऐंठन होती है। यह भी ध्यान रखें कि कुछ हार्मोन और कमजोरी के कारण प्रत्यारोपण (embryo transplant) के समय अगर ज्यादा ब्लीडिंग हो रही है तब गर्भपात (abortion) भी हो सकता है। अगर असामान्य पीरियड्स हो, चाहे प्रेग्नेंट हो या नहीं, तब दोनों ही स्थिति में बिना देरी किये डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

शारीरिक तापमान बढ़ जाना (Changes in body temperature)

प्रेग्नेंसी में शरीर का तापमान बढ़ जाता है, हालांकि ओव्यूलेशन की प्रक्रिया होने से पहले भी तापमान बढ़ जाता है लेकिन पीरियड्स के बाद नॉर्मल हो जाता है। जब नया जीवन खुद को भ्रूण में स्थापित (Embryo Transplant) करने की कोशिश करता है तब शरीर का तापमान बढ़ जाता है। अगर ओव्यूलेशन के 20 दिन बाद भी शरीर का तापमान बढ़ता रहे तो ये प्रेग्नेंसी का संकेत हो सकता है। ऐसे संकेत दिखाई देने पर डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

थकना (Tiredness)

भ्रूण गर्भ में प्रत्यारोपित (Embryo Transplant in uterus) होने के बाद पेट के निचले हिस्से को थोड़ा भारी बना देता है, इससे महिला के चलने के तरीके में बदलाव आता है। इसके साथ ही हार्मोन में बदलाव होने लगता है, जिससे थकान महसूस होना शुरू हो जाती है। बच्चे के विकास के लिए शरीर और खून बनाना शुरू कर देता है, जिससे थकान होने लग जाती है। 

ब्रेस्ट में दर्द (Pain in breast)

पीरियड्स मिस होने से पहले प्रेग्नेंसी के लक्षणों (pregnancy symptoms before missed period in hindi) में स्तन का दर्द भी शामिल है। पीरियड्स मिस होने से पहले ब्रेस्ट में दर्द और भारीपन होना शुरू हो जाता है। प्रेग्नेंसी कंसीव करने के बाद शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन बढ़ जाता है, जिससे स्तनों में दर्द होना शुरू हो जाता है। निप्पल का रंग गहरा हो जाता है। प्रेग्नेंसी में ये लक्षण पीरियड्स मिस (pregnancy symptoms before missed period in hindi) होने के बाद भी मौजूद रहते हैं।

उल्टी जैसा होना (Vomit)

प्रेग्नेंट महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस की परेशानी होती हैं, इसमें जी घबराना और उल्टी जैसा महसूस होता है। ऐसा जरूरी भी नहीं कि सिर्फ सुबह के समय ही उल्टी जैसा महसूस हो, दिन में या रात में भी उल्टी जैसा महसूस हो सकता है। 80% महिलाओं को प्रेग्नेंसी के समय जी मिचलाना, उल्टी होना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

सिर दर्द (head ache)

प्रेग्नेंसी में सिर दर्द होना आम सकेंतों में से एक हैं। हार्मोन में बदलाव आने के कारण ब्लड ग्लूकोज का स्तर कम हो जाता है, जिससे सिर दर्द शुरू हो जाता है। 

बेहोश होना (unconscious)

प्रेग्नेंट महिलाओं में ब्लड प्रेशर कम हो जाता हैं, जिससे चक्कर आते है। ऐसा पहले तीन महीनों में होता है। बेहोश होना वैसे तो किसी खतरे की ओर इशारा नहीं करता, लेकिन इसके साथ अगर योनि में खून और पेट-दर्द होने लगें तो डॉक्टर से सलाह जरूर लेना चाहिए।

कब्ज और डायरिया (Constipation and diarrhea)

भ्रूण (Embryo) प्रत्यारोपित (Transplant) होने के बाद प्रेग्नेंट महिला को खुद और बच्चे दोनों के लिए सही मात्रा में डाइट लेने की जरूरत होती है। रूटीन की आदतों के कारण प्रेग्नेंसी की डाइट को फॉलो करना शुरू में मुश्किल होता है। इस वजह से जब पानी भी संतुलित मात्रा में नहीं पिया जाता तो डिहाइड्रेशन होने लगता है, जिससे डायरिया हो जाता है। पानी और शरीर में फाइबर की कमी से कब्ज भी हो सकता है। यह लक्षण पीरियड्स मिस (pregnancy symptoms before missed period in hindi) होने के पहले भी दिखाई देते है।

स्वाद में बदलाव और तेज गंध आना (Taste change and strong smell)

प्रेग्नेंट महिलाओं के स्वाद में बदलाव आ जाता हैं। जो फूड वे पहले शौक से खाती हैं, उसे प्रेग्नेंसी के बाद खाना पसंद नहीं करती, यहां तक कि उसे देख कर चिढ़ तक आने लगती हैं। कुछ समय के बाद तो प्रेग्नेंट महिला को किसी भी  तरह का स्वाद ही समझ नहीं आता। स्वाद भी कसैला हो जाता है, सिर्फ खट्टे पदार्थ का ही टेस्ट आता है। 

प्रेग्नेंसी में महिलाओं की नाक तेज हो जाती हैं, उन्हें धीमी खुशबू या बदबू तेज आने लगती हैं।

बार बार यूरिन आना 

प्रेग्नेंसी में सबसे आम लक्षण है, पेशाब का बार बार आना। पीरियड्स मिस होने से पहले भी यह आम लक्षण (pregnancy symptoms before missed period in hindi) के तौर पर दिखाई देता है। प्रेग्नेंसी में बच्चे के लिए और अधिक खून बनना शुरू हो जाता है। जिसके बाद किडनी को ब्लड फिल्टर करने के लिए ज्यादा देर तक काम करना पड़ता है, इस कारण ही प्रेग्नेंट महिला को बार बार पेशाब (Frequent urination) आता है। 

सांस फूलना (breathlessness)

किसी भी प्रेग्नेंट महिला को सांस फूलने की परेशानी हो सकती हैं। मां और बच्चे दोनों को सांस लेने की जरूरत होती हैं। बच्चा गर्भ में मां के जरिए सांस लेता है। प्रेग्नेंसी के हर फेज में सांस फूलने की परेशानी हो सकती है।

बार बार प्यास और भूख लगना (Frequent thirst and hunger)

पीरियड्स मिस होने से पहले यह लक्षण (pregnancy symptoms before missed period in hindi) भी प्रेग्नेंसी की ओर संकेत कर सकता है। प्रेग्नेंसी में मां और बच्चे दोनों को पोषण की जरूरत होती हैं, जिससे डाइट एक सामान्य महिला से ज्यादा हो जाती है। ऐसी स्थिति में प्रेग्नेंट महिला को बार बार प्यास और भूख लगती है, लेकिन ज्यादातर महिलाएं इसे प्रेग्नेंसी के लक्षण के तौर पर समझ नहीं पाती।

अजीब सपने आना और लार टपकना (Weird dream and saliva )

आपने सुना होगा कि प्रेग्नेंट महिलाओं को भूत-प्रेत सपने में आते हैं, ऐसा सब किसी अंधविश्वास के कारण नहीं बल्कि हार्मोन में तब्दीलियों के चलते होता है। प्रेग्नेंसी में हार्मोन अजीब तरीके से काम करते हैं, जो प्रेग्नेंट महिलाओं के मन में भ्रम पैदा करते हैं। ऐसा होने पर घबराने की जरूरत नहीं है।

लार टपकना जैसा लक्षण हर महिला में नहीं दिखाई देता। कुछ महिलाओं में पीरियड्स न आने पर ज्यादा लार बनती हैं। इसलिए पीरियड्स मिस होने पर लार टपकना इसे भी प्रेग्नेंसी का एक लक्षण माना जा सकता है।

 

और पढ़े: