how-to-get-pregnant-with-irregular-periods-in-hindi

हर महिला को मां बनने की ख्वाहिश होती है, लेकिन कुछ कारणों कि वजह से उन्हें गर्भधारण करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अनियमित माहवारी भी उन्ही कारणों में से एक है। यह महिलाओं में होने वाली एक आम समस्या है जो अधिकतर मामलों में हार्मोनल बदलाव के कारण होती है। अनियमित माहवारी के कारण ओवुलेशन की प्रक्रिया में रुकावट पैदा होती है जो अंतत गर्भधारण करने में रुकावट पैदा करती है। शोध से इस बात कि पुष्टि हुई है कि बांझपन के 30%-40% मामलों में अनियमित ओवुलेशन मुख्य कारण होता है।  

इसे पढ़ें: पीरियड्स क्या है और क्यों होता है  

अनियमित माहवारी को अनियमित पीरियड्स, इर्रेगुलर पीरियड्स, मिस्ड पीरियड्स, असामान्य रक्स्राव आदि के नाम से भी जाना जाता है। जब किसी महिला को हर महीने सामान्य अंतराल पर पीरियड आता है तो उसे नियमित पीरियड माना जाता है। एक नियमित मासिक धर्म चक्र 21-35 दिनों तक का भी हो सकता है। इसे नियमित तब माना जाता है जब यह एक महीने में लंबा और दूसरे महीने में छोटा हो जाए। लेकिन जब मासिक धर्म चक्र 21 दिन से कम या 35 दिनों से लंबा होता है तो इसे अनियमित मासिक धर्म चक्र माना जाता है।   

लगभग हर महिला अपने जीवन में कभी न कभी अनियमित माहवारी को अवश्य अनुभव करती है।अनियमित माहवारी के ढेरों कारण हैं। इसके मुख कारणों में गर्भनिरोधक में बदलाव होना, शरीर में हार्मोनल असंतुलन होना जैसे कि एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन में कमी होना, पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) या पॉलिसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर (PCOD) से पीड़ित होना, तेजी से वजन बढ़ना या घटना, मोटापा होना, तनाव होना या हमेशा चिंता में रहना, जरूरत से अधिक एक्सरसाइज करना, स्तनपान कराना आदि शामिल हैं। 

इसे पढ़ें: क्या प्रेगनेंसी में पीरियड्स आते हैं?

अनियमित माहवारी में गर्भधारण करने में बेशक परेशानियों और जटिलताएं होती हैं, लेकिन इस स्थिति में गर्भधारण करना संभव है। इसलिए अगर आपका मासिक धर्म अनियमित है और आप गर्भधारण करना चाहती हैं तो आप बेशक गर्भधारण कर सकती हैं, लेकिन आपको कुछ ख़ास बातों का पालन करना होगा। नीचे हम आपको उन उपायों के बारे में बता रहे हैं जिनकी मदद से आप अपने पीरियड्स को नियमित कर बहुत ही आसानी से गर्भधारण कर सकती हैं।     

अनियमित माहवारी में गर्भधारण कैसे करें? 

ज्यादातर मामलों में अनियमित माहवारी शरीर में हार्मोनल बदलाव के कारण होती है। ऐसी स्थिति में आप अपने खानपान और जीवनशैली में बद्लाव लाकर हार्मोन में संतुलन ला सकती हैं। इसके लिए आपको अपनी डाइट में पोषक तत्वों से भरपूर फल और सब्जियों को शामिल करना चाहिए। स्वस्थ लाइफस्टाइल और स्वस्थ खानपान से माहवारी की अनियमितता खत्म होती और गर्भधारण की संभावा बढ़ती है। 

इसे पढ़ें: पीरियड्स मिस होने से पहले प्रेगनेंसी कैसे पता करें?

साथ ही आपको तले-भुने, जंक फूड्स और अधिक मीठी चीजों के सेवन से भी बचना चाहिए। पूरे दिन भर में कम से कम 8-10 गिलास पानी पीना चाहिए। इसके अलावा, आपको कम वसा वाले दूध और मेवों को भी अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। वजन बढ़ना भी अनियमित माहवारी का कारण बन सकता है, क्योंकि वजन बढ़ने पर इस्ट्रोजन हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है, जिसके कारण माहवारी में अनियमितता की शिकायत होती है। इसलिए अपने वजन पर नियंत्रण रखें। वजन को फिट रखने के लिए आपको अपने खानपान पर ध्यान देने के साथ-साथ रोजाना सुबह या शाम में हल्का-फुल्का व्यायाम भी करना चाहिए। 

अनियमित माहवारी होने पर कई बार स्त्री रोग विशेषज्ञ प्रजनन बढ़ाने वाली या दूसरी अन्य दवाओं का सेवन करने की सलाह देती हैं। इन दवाओं के सेवन से माहवारी नियमित हो जाती है जिससे ओव्यूलेशन की प्रक्रिया शुरू हो जाती है और आपके गर्भधारण करने की संभावना भी बढ़ जाती है। अपने पीरियड्स को नॉर्मल बनाने के लिए आप योग भी कर सकती हैं। योग की मदद से भी अनियमित माहवारी को नियमित बनाया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें: प्रेगनेंट नहीं होने के कारण और इलाज

तनाव अनियमित माहवारी के मुख्य कारणों में से एक है। खानपान और लाइफस्टाइल में बदलाव लाने और दूसरी सभी बेकार और अस्वस्थ चीजों से परहेज करने के अलावा आपको तनाव से हमेशा खुद को दूर रखना चाहिए। तनाव को दूर रखने से आपके पीरियड्स नियमित हो जाएंगे। अपने तनाव को कम करने के लिए आपको उन चीजों में खुद को व्यस्त रखना चाहिए जो आपको पसंद है या और जिससे आपको खुशी मिलती है। तनाव को दूर करने के लिए आप कुछ दिनों के लिए किसी यात्रा पर भी जा सकती हैं। ऐसा करने से आपके तन और मन दोनों फ्रेश हो जाते हैं, जिससे पीरियड्स में अनियमितता कम या खत्म और आपके गर्भधारण करने की संभावना बढ़ जाती है। 

इसे पढ़ें: पीरियड्स: खून और इसके रंग से जुड़ी बातें

इन सबके बाद भी अगर आपको कोई फायदा दिखाई नहीं दे तो फिर आपको बिना देरी किए स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलना चाहिए। कई बार पीरियड्स में अनियमितता का कारण कोई गंभीर बीमारी भी हो सकती है। स्त्री रोग आपकी जांच करने के बाद इस बात की पुष्टि कर सकती हैं कि आपके अनियमित माहवारी और गर्भधारण नहीं होने का वास्तविक कारण क्या है। फिर कारण के आधार पर वे इलाज की प्रक्रिया का चयन कर आपकी परेशानी को आसानी से दूर कर सकती हैं। 

प्रिस्टीन केयर के पास देश की सबसे बेहतरीन और अनुभवी स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं जिन्हें सालों का अनुभव प्राप्त है। ये आपकी समस्या को मात्र कुछ ही दिनों के अंदर पूरी तरह से खत्म कर आपको मानसिक और शारीरिक रूप से गर्भधारण करने योग्य बना सकती हैं। अगर आप अनियमित माहवारी से मुक्ति पाना और गर्भधारण करना चाहती हैं तो अभी हमसे संपर्क करें। 

और पढ़ें