app download
प्रिस्टिन केयर
नि: शुल्क परामर्श बुक करें
Golden Colored Star Golden Colored Star Golden Colored Star Golden Colored Star Grey Colored Star प्ले स्टोर पर रेटिंग

Eye Views: 15,422

खतना करने की कितनी प्रक्रियाएं हैं, सबसे अच्छी प्रक्रिया क्या है?

खतना कितने तरीकों से किया जा सकता है?

Social share:

Linkedin icon Whatsapp icon
अभी अपना फ्री में फ्री में परामर्श बुक करें
Arrow Icon
Arrow Icon

हर कदम पर समर्पित समर्थन!

हमारे डॉक्टर आपकी सहायता के लिए दिन में 24 घंटे, सप्ताह में 7 दिन उपलब्ध हैं!

Hero Action

प्राचीन समय से ही खतना बहस का एक मुद्दा रहा है, लेकिन इससे होने वाले लाभ के कारण धीरे-धीरे बहस कम होती जा रही है। खतना लिंग के चमड़ी से जुड़ी कई समस्याओं को हल करने के लिए एक अहम उपचार है। इससे यौन संचारित रोग होने की संभावनाएं बहुत कम हो जाती हैं।

इसके नुकसान बहुत कम हैं, यदि खतना करवाने के लिए सही प्रक्रिया का चयन कर लिया जाए तो इसके होने वाले नुकसान शून्य हो जाएंगे। रोगियों को दर्द रहित खतना प्रदान करने की कई मॉडर्न विधियां आ चुकी हैं। आज हम इस लेख में सर्कमसीजन करने की प्रक्रियाएं और उनमें से सबसे अच्छी पक्रिया का चयन करने की बात करेंगे।

खतना क्यों करवाते हैं?

खतना करवाने के पीछे कई कारण होते हैं, जैसे-

  • बैलेनाइटिस (लिंग में सूजन) 
  • फाइमोसिस (इस स्थिति में लिंग के बाहरी हिस्से की चमड़ी ऊपर-नीचे नहीं हो पाती है) 
  • पोस्थाइटिस (लिंग के सिर की चमड़ी में सूजन होना) 
  • पैराफाइमोसिस (इस बीमारी में लिंग की ऊपरी हिस्से की चमड़ी पीछे चली जाती है, लेकिन आगे नहीं आ पाती है। 
  • बैलेनोपोस्थाइटिस (लिंग के अगले हिस्से और उसकी ऊपरी चमड़ी में सूजन आ जाना) लिंग की चमड़ी पर मस्सेदार घाव बनना लिंग की चमड़ी पर कैंसर से संबंधित घाव बनना
  • धार्मिक मसला

पढ़ें – खतना करवाने के फायदे और नुकसान

हम आपकी देखभाल करते हैं
नो कॉस्ट ईएमआई, परेशानी मुक्त बीमा स्वीकृति
के साथ अपनी सर्जरी करवाएं

खतना करने की प्रक्रियाएं

ओपन सर्जरी – खतना करने की पुरानी विधि

ओपन सर्जरी खतना करने की पारंपरिक विधि है, जो लम्बे समय से अस्तित्व में थी और अब भी पिछड़े इलाकों में वर्धमान है।

खतना की इस प्रक्रिया में डॉक्टर लिंग की ऊपरी चमड़ी को चाकू जैसे धारदार औजार की मदद से काट देते हैं। इस दौरान रोगी को भारी दर्द एवं रक्तस्त्राव होता है। यदि एनेस्थीसिया का उपयोग किया जाए तो दर्द नहीं होता है। ओपन सर्जरी के जरिए किए गए खतना में उपचार के बाद रोगी को दर्द का सामना करना पड़ता है। यदि सर्जरी के दौरान कोई गलती हो गई तो बाद में इन्फेक्शन और जटिलताएं हो सकती हैं। 

पारंपरिक खतना के कुछ मामलों में, हेमटोमा यानी लिंग क्षेत्र की त्वचा के नीचे रक्त का जमाव भी देखा जाता है। 

ओपन खतना के बाद रोगी को पूरी तरह से ठीक होने में 4 से 5 सप्ताह का वक्त लगता है, इस दौरान उसे प्रतिबंधित जीवनशैली का हिस्सा रहना पड़ता है। यदि रोगी की सतर्कता और सावधानियों में थोड़ी भी कमी हुई तो इन्फेक्शन और जटिलताएं होने में देरी नहीं लगेगी। हल्का टच हो जाने पर दर्द हो सकता है, इसलिए ओपन सर्जरी के जरिए खतना करवाने के बाद व्यक्ति अपने काम पर कई दिनों तक नहीं जा पाता है।

अब आप खतना करने के पारम्परिक तरीके के बारे में अच्छी तरह जान चुके होंगे, आइये अब खतना करने के दूसरे विधि की ओर रुख करते हैं।

ZSR खतना

कई डॉक्टर ZSR खतना को स्टेपलर खतना भी कहते हैं। यह खतना करने की एक मॉडर्न विधि है, जो लगभग हर क्लीनिक में उपलब्ध होती है। यह एक बहुत ही सुरक्षित प्रक्रिया है जिसमें शायद ही रोगी को रक्तस्त्राव और दर्द हो। स्टेपलर सर्कमसीजन करने के बाद लिंग के चमड़ी का आकार भी बराबर होता है।

पूरी प्रक्रिया लोकल एनेस्थीसिया के प्रभाव में होती है और इसे करने में 20 से 30 मिनट का वक्त लगता है। उपचार के तुरंत बाद रोगी घर जा सकता है। रिकवरी में कोई जटिलता नहीं होती है और कोई दर्द नहीं होता है, यदि ZSR खतना के बाद रिकवरी के समय हल्का-फुल्का दर्द महसूस भी होता है तो उसे सामान्य पेनकिलर का सेवन करने के खत्म किया जा सकता है।

कम से कम 4 से 5 दिन या अधिक से अधिक एक से डेढ़ हफ्ते में रोगी अच्छी तरह से रिकवर हो जाता है और उपचार के दो दिन बाद से वह अपने काम पर वापिस जा सकता है। दर्दरहित एवं इन्फेक्शन रहित रिकवरी के कारण डॉक्टर इस प्रक्रिया का चयन करने को कहते हैं।

लेजर खतना

सर्जरी के क्षेत्र में विज्ञान ने काफी विकास किया है। खतना की प्रक्रिया को दर्द रहित, कट रहित और रक्तरहित बनाने के लिए लेजर प्रक्रिया भी की जाती है। लेजर प्रक्रिया में बिना किसी कट के एक निर्धारित फ्रीक्वेंसी की लेजर किरण की मदद से लिंग के ऊपरी चमड़ी को हटा दिया जाता है। प्रक्रिया को पूरा करने में 10 से 20 मिनट का समय लगता है। यह सिर्फ चमड़ी को अलग करता है जिससे लिंग के सिर पर मौजूद टिश्यू को कोई नुकसान नहीं होता है। 

लेजर खतना को एनेस्थीसिया देने के बाद किया जाता है, इससे रोगी को रत्ती भर दर्द भी नहीं होता है साथ ही लेजर किरणों के इस्तेमाल के कारण एक बूँद खून भी नहीं गिरता है। जख्म न होने के कारण रोगी को रिकवरी होने में एक हफ्ते से भी कम समय लगता है और इलाज के दूसरे दिन से ही रोगी अपने ऑफिस में बिना किसी अड़चन के जा सकता है। 

लेजर खतना के बाद जीवनशैली में कोई परिवर्तन नहीं करना पड़ता है।

इसे भी पढ़ें: लेजर खतना

खतना करवाने के लिए सबसे अच्छी प्रक्रिया क्या है?

खतना को दर्द रहित और रक्त रहित बनाने के लिए Pristyn Care के डॉक्टर/सर्जन लेजर और ZSR विधि को अधिक महत्व देते हैं। अगर लेजर और ZSR खतना के बीच में किसी एक को अच्छा बताया जाए तो लेजर खतना पहले नंबर पर होगा। दरअसल,  ZSR की तुलना में लेजर खतना के बाद की रिकवरी जल्दी होती है।

इसे भी पढ़ें: पैराफिमोसिस के इलाज की प्रक्रिया

प्रिस्टिनकेयर ऐप
अधिक सुविधाएं मुफ्त में प्राप्त करने के लिए ऐप डाउनलोड करें
लक्षणों की जाँच करें
काउइन सर्टिफिकेट
अवधि ट्रैकर
दंत संरेखक
Google Play App Store

Pristyn Care करता है एडवांस और दर्दरहित खतना

यदि आप खतना की प्रक्रिया किसी अच्छे एवं अनुभवी यूरोलॉजिस्ट से करवाना चाहते हैं तो Pristyn Care में अपॉइंटमेंट बुक करें। Pristyn Care एक सुरक्षित और दर्द रहित मॉडर्न खतना (ZSR और लेजर) प्रदान करने के लिए 20 से अधिक शहरों में फैला है। हम अपने रोगियों को निम्न सुविधाएं प्रदान करते हैं-

  • अनुभवी सर्जन
  • आर्थिक मदद के लिए जांच में 30% की छूट
  • गुप्त परामर्श
  • उच्च तकनीक उपकरण
  • फ्री फॉलो-अप
  • फ्री पिक-अप एंड ड्राप (इलाज वाले दिन अस्पताल लाना और घर छोड़ना)

इसे भी पढ़ें: बैलेनाइटिस के इलाज के बारे में जानकारी

निष्कर्ष

खतना करवाना व्यक्ति का व्यक्तिगत निर्णय है। कभी-कभी चिकित्सा जरूरत के लिए भी पुरुषों को खतना करवाना जरूरी हो जाता है। खतना की प्रक्रिया का चयन करने से पहले उसके सभी विधि को जान लेना चाहिए और यह प्रक्रिया हमेशा एक अच्छे डॉक्टर से करवाना चाहिए।

एक अनुभवी सर्जन से बिना किसी जटिलता के उपचार करवाने के लिए आज ही Pristyn Care में एक अपॉइंटमेंट बुक करें!

डिस्क्लेमर: यह ब्लॉग सामान्य जानकारी के लिए लिखा गया है| अगर आप किसी बीमारी से ग्रसित हैं तो कृपया डॉक्टर से परामर्श जरूर लें और डॉक्टर के सुझावों के आधार पर ही कोई निर्णय लें|

इसे भी पढ़ें: लिंग की चमड़ी में सूजन का इलाज

अन्य लेख
लैट्रिन (मल) में खून आना – कारण, लक्षण और इलाज । latrine me blood aana in hindi

लैट्रिन (मल) में खून आना – कारण, लक्षण और इलाज । latrine me blood aana in hindi

1 month ago

प्रेगनेंसी के दौरान सेक्स करने का सबसे बेहतरीन तरीका — Pregnancy Me Sex Kaise Kare

प्रेगनेंसी के दौरान सेक्स करने का सबसे बेहतरीन तरीका — Pregnancy Me Sex Kaise Kare

1 month ago

पीरियड्स के कितने दिन बाद प्रेग्नेंसी होती है? (Period Ke Kitne Din Baad Pregnancy Hoti Hai)

पीरियड्स के कितने दिन बाद प्रेग्नेंसी होती है? (Period Ke Kitne Din Baad Pregnancy Hoti Hai)

1 month ago

ऐप खोलें