period jaldi lane ke upay

महिलाओं के लिए पीरियड्स का सही समय पर आना जरूरी हैं, क्योंकि पीरियड्स की तारीखों के अनुसार ही कई चीजों की प्लानिंग होती है जैसे ट्रेवल, प्रेग्नेंसी। बहरहाल, वजह कुछ भी हो, पीरियड्स जल्दी लाने के लिए कई तरह के उपाय किए जाते है। जरूरी नहीं कि पीरियड्स इन उपायों को आजमाने से जल्दी आ जाएं। पीरियड्स जल्दी लाने के लिए कोई भी उपाय सोच समझ कर ही करना चाहिए। कुछ महिलाएं पीरियड्स जल्दी लाने की कोशिश इसलिए भी करती है कि उन्हें पीरियड्स एक महीना पूरा होने के बाद भी नहीं आते हैं। आमतौर पर ऐसा इसलिए होता है कि उनका मासिक धर्म चक्र 28 दिन से ज्यादा दिनों का होता हैं। 

 

पीरियड्स लेट आने का कारण (Causes of delay period)

सामान्य तौर पर किसी भी महिला का मासिक धर्म चक्र 21 से 35 दिनों का होता है। पीरियड्स न आने को एमेनोरिया (amenorrhea) कहते है। जिन लड़कियों को 15 साल की उम्र में भी पीरियड्स शुरू नहीं हुए और वे महिलाएं जिनका तीन या तीन से ज्यादा महीने तक पीरियड्स न आए हैं, उन्हें एमेनोरिया हो सकता हैं। पीरियड्स मिस या लेट होने के निम्न कारण हो सकते हैं;

  • तनाव 
  • बहुत कम या ज्यादा वजन
  • पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome)
  • हार्मोनल कॉन्ट्रासेप्टिव
  • गंभीर बीमारियां जैसे डाइबिटीज या सीलिएक रोग 
  • थायरॉइड की बीमारी
  • मेनोपॉज 
  • प्रेग्नेंसी 

 

प्रेग्नेंसी होने की आशंका होने पर पीरियड्स जल्दी लाने से नुकसान

पीरियड्स मिस होने के कारण कई महिलाओं को ये लगता हैं कि प्रेग्नेंसी है। जब उन्हें ऐसी स्टेज में प्रेग्नेंसी को avoid करना होता है तो वे पीरियड्स जल्दी लाने की कोशिश करती है। ये जानबूझकर किया जाए या अनजाने में, दोनों के ही नुकसान होते हैं। अगर पीरियड्स मिस हो गए है और किसी कारणवश इसे जल्दी लाना है तो कुछ भी करने से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लें। अगर आपको आशंका हैं कि प्रेग्नेंसी के कारण पीरियड्स लेट हुए है तब भी खुद से कोई दवाई न लें। अगर आप दवाई ले लेती हैं तो जरूरी नहीं कि गर्भपात (Miscarriage) हो जाएं लेकिन शरीर को नुकसान जरूर होगा। अगर गर्भपात हो भी जाएं तो ब्लीडिंग अनियंत्रक (Uncontrollable) होती है, जिससे एनीमिया और दूसरी समस्याएं हो सकती है। अगर पहले से प्लान है कि प्रेग्नेंसी avoid करना है तो बेहतर है कि डॉक्टर की सलाह से ही दवाई लें। कभी भी पीरियड्स मिस होने को प्रेग्नेंसी न समझें। प्रेग्नेंसी के और भी दूसरे लक्षण होते हैं। पीरियड्स मिस होने से पहले भी प्रेग्नेंसी के लक्षण दिखाई देते हैं। इसलिए किसी भी नतीजे पर पहुंचने से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

 

पीरियड्स जल्दी लाने की दवाइयां (Medicine for Getting period early)

पीरियड्स जल्दी लाने के लिए महिलाएं किसी से सुन कर टैबलेट का सेवन करती हैं, लेकिन इससे नुकसान भी हो सकता है। मार्केट में पीरियड्स जल्दी लाने के लिए कई दवाइयां हैं लेकिन किसी भी दवाई को डॉक्टर की सलाह के बाद ही खाना चाहिए। अक्सर पीरियड्स जल्दी लाने के लिए Primolut N दवाई दी जाती है। हालांकि यह दवाई दूसरी समस्याओं का इलाज करने के लिए भी दी जाती है। इसमें अनियमित पीरियड्स को रेगुलर करने, पीरियड्स आने पर ज्यादा ब्लीडिंग होने, पीरियड्स के समय होने वाले दर्द को कम करने जैसे कारण शामिल हैं। यह भी बता दें कि   इस दवाई से पीरियड्स जल्दी नहीं आते बल्कि पीरियड्स की तारीख आगे बढ़ जाती है। पीरियड्स जल्दी लाने के लिए डॉक्टर हॉर्मोनल बर्थ कंट्रोल पिल्स देते हैं। ये दवाइयां डॉक्टर ही देते हैं, इसलिए अपने हिसाब से कोई दवाई पीरियड्स जल्दी लाने के लिए न लें वरना बहुत ज्यादा ब्लीडिंग या दूसरे साइड इफेक्ट भी दिखाई दे सकते है।

 

पीरियड्स जल्दी लाने के लिए घरेलु उपाय (Home remedies for getting periods early)

पीरियड्स जल्दी लाने के लिए कई घरेलू उपायों को आजमाया जा सकता है लेकिन किसी भी उपाय को आजमाने से पहले डॉक्टर से जरूर बात कर लें। अगर उपाय आजमाने के बाद भी पीरियड्स जल्दी न आएं तब किसी भी उपाय को ज्यादा न दोहराएं, इससे नुकसान भी हो सकता है।

विटामिन सी 

विटामिन सी पीरियड्स जल्दी लाने में मदद करता है, हालांकि इसका कोई scientific evidence नहीं है। कहा जाता है कि विटामिन सी एस्ट्रोजल लेवल को बढ़ा कर प्रोजेस्टेरोन का स्तर कम करता है। इससे यूटेरस की लाइन गिरने लगती है और ब्लीडिंग होने के साथ पीरियड्स आ जाते है। इसे आजमाने के लिए विटामिन सी का सप्लीमेंट लें तो डॉक्टर से जरूर पूछें। जरूरत से ज्यादा विटामिन लेने से दूसरी कोई और समस्या भी हो सकती है।

 पाइनएप्पल 

इसमें ब्रोमलेन नाम का एंजाइम होता है जो सूजन कम करने में मदद करता है। एक रिसर्च के अनुसार, ब्रोमलेन सूजन कम करने के साथ अनियमित पीरियड्स के कारणों को दूर करता है लेकिन इसका कोई scientific evidence नहीं है।

अदरक 

अदरक हमेशा से पीरियड्स जल्दी लाने के लिए लिया जाता है। यह यूटेरस पर दबाव डालता है, जिससे ब्लीडिंग होना शुरू हो जाती है। इसके लिए अदरक की चाय बना कर पी जा सकती है। 

अजमोद (Parsley)

अजमोद में अच्छी मात्रा में विटामिन सी होता है, इससे यूटेरस पर दबाव पड़ता है। यह कुछ निश्चित मात्रा में लेने से प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए घातक भी साबित हो सकता हैं। इसे प्रेग्नेंसी, किडनी की प्रॉब्लम और ब्रेस्ट फीडिंग के दौरान नहीं लेना चाहिए।

 हल्दी 

कहा जाता है, हल्दी में Therapeutic properties (किसी भी बीमारी को ठीक करने के गुण) होती हैं। हल्दी एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने-घटाने का काम करता है, हालांकि इसका कोई scientific evidence नहीं है। इसे दूध, सब्जी जैसी चीजों में डाल कर लिया जा सकता है। 

आराम 

कई महिलाएं जो लगातार एक्सरसाइज करती हैं या स्पोर्ट्स से जुड़ी हैं, उन्हें सामान्यतः पीरियड लेट आता है। अगर पीरियड्स लेट आने का कारण ये है तो कुछ दिन एक्सरसाइज को कम कर आराम भी कर सकती हैं। इस चीज का ध्यान रखें कि एक्सरसाइज को पूरी तरह बंद न करें। मानसिक रूप से भी आराम करना जरूरी होता है। ज्यादा तनाव लेने से भी हार्मोन का बैलेंस बिगड़ जाता है तो पीरियड्स लेट हो जाते है। 

हॉट बाथ 

हॉट बाथ लेने से टाइट मसल्स को आराम मिलता है और इससे Emotional Stress भी कम होता है। इससे ब्लड फ्लो सुधरता है और पीरियड्स समय पर आने लगते है।

समय पर पीरियड्स न आने पर डॉक्टर से संपर्क करें 

मेनोपॉज, पीसीओसी और पीसीओडी के कारण पीरियड्स अपने नियमित समय पर नहीं आते हैं। पीरियड्स के समय पर नहीं आने से आपको ढेरों परेशानियां हो सकती हैं। जैसे कि गर्भधारण करने में परेशानी होना, योनि और यूरिन में इंफेक्शन होना आदि। कई बार कुछ लड़कियों या महिलाओं को कहीं घूमने जाने या फिर कोई खास प्लान होने के कारण वे चाहती हैं कि उनका पीरियड्स समय से पहले ही आ जाए ताकि बाद में उन्हें परेशानी न हो। खैर, मामला चाहे जो भी हो, यह आवश्यक है कि समय पर पीरियड्स न आने या समय से पहले पीरियड्स लाने के लिए आप स्त्री-रोग विशेषज्ञ से मिलाकर इस बारे में अवश्य बताएं। 

अगर आपको पीरियड्स नहीं आ रहे हैं तो स्त्री-रोग विशेषज्ञ आपके लक्षणों को देखकर कुछ जांच करती हैं जिससे आपकी प्रॉब्लम के पीछे के सटीक कारण का पता चल जाता है। साथ ही वे अगर आप अगर आप अपने पीरियड्स को जल्दी लाना चाहती हैं तो डॉक्टर आपकी शारीरिक जांच करने के बाद कुछ दवाओं का सेवन करने कि सलाह दे सकती हैं। लेकिन ध्यान रहे कि किसी भी दवा का सेवन बिना डॉक्टर कि सलाह के नहीं करना चाहिए। क्योंकि इससे आपकी परेशानियां घटने के बजाय बढ़ जाएंगी। 

ज्यादातर मामलों में मेनोपॉज, पीसीओडी और पीसीओएस के कारण पीरियड्स में समस्या आती है। जिसका समय पर इलाज आवश्यक है। अगर आपका भी पीरियड्स अपने नियमित समय पर नहीं आ रहे हैं या फिर आप इन्हे जल्दी लाना चाहती हैं तो डॉक्टर से मिलकर इस बारे में बात करें। वे आपकी सुरक्षित तरीके से सही मदद करेंगी।

और पढ़े

पीरियड्स खुल कर न होने के लक्षण, कारण और इलाज
एबॉर्शन के बाद पीरियड कब आता है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *