prp-therapy-ke-faayde-aur-nuksan-in-hindi

धूल, प्रदूषण, खराब जीवनशैली और खान पान के कारण आज कई तरह की बीमारियां सामने देखने को मिल रही हैं। इन्ही में से एक बाल का झड़ना यानी गंजापन है। बाल झड़ने की समस्या आज आम बन चुकी है और इससे मर्द औरत हर कोई परेशान है। इस समस्या को दूर करने के लिए बाजार में कई तरह की दवाएं, तेल और इलाज के दूसरे माध्यम उपलब्ध हैं। लेकिन Hair Fall PRP पीआरपी ट्रीटमेंट सबसे कारगर और लोकप्रिय माना जाता है। बाल झड़ने की परेशानी को दूर करने के लिए खासकर शहर में काफी लोग इस ट्रीटमेंट मेथड का इस्तेमाल कर रहे हैं।  

इसे भी पढ़ें: गंजेपन का सबसे बेहतरीन इलाज

पीआरपी थेरेपी क्या है — PRP Therapy in Hindi — PRP in Hindi — PRP Kya Hai

पीआरपी को प्लेटलेट्स रिच प्लाज्मा ट्रीटमेंट के नाम से भी जाना जाता है। यह इलाज का एक गैर-ऑपरेटिव विकल्प है जिसका इस्तेमाल पेशेवर एथलीट, मनोरंजन एथलीट और अधिक काम करने वाले लोगों आदि का इलाज करने के लिए किया जाता है। Hair Fall PRP इतना ही नहीं इसका इस्तेमाल आर्थराइटिस, टेंडनिटिस और लिगामेंट में चोट के लिए भी किया जाता है। विशेषज्ञ का कहना है कि पीआरपी कि मदद से बाल झड़ने कि समस्या को काफी हद तक दूर किया जा सकता है। यह बाल झड़ने से रोकता है तथा उसे मोटा और मजबूत भी बनाता है।  

आगे पढ़ें: हेयर ट्रांसप्लांट के फायदे और नुकसान

शोध से पता चला है कि प्लेटलेट्स से जारी कि जाने वाली वृद्धि कारक टिश्यूज को ठीक कर रिपैरेटिव कोशिकाओं कि संख्या में वृद्धि लाते हैं। जख्म को ठीक करने में प्लेटलेट्स एक बड़ी भूमिका निभाते हैं। इसलिए मेडिकल प्रक्रिया को अधिकतम करने के लिए प्लेटलेट्स को रेड ब्लड सेल्स से केंद्रित करके अलग कर दिया जाता है। PRP Therapy For Hair Fall in Hindi यहां पीआरपी का मकसद प्लेटलेट्स कि संख्या को बढ़ाना होता है। इंसान का खून में 93% रेड ब्लड सेल्स, 6% व्हाइट ब्लड सेल्स, 1% प्लेटलेट्स और प्लाज्मा से बना हुआ है।

पीआरपी थेरेपी की प्रकिया — Procedure of PRP Therapy in Hindi — PRP Kaise Kiya Jata  Hai 

पीआरपी कि प्रकिया के दौरान डॉक्टर शिरा से खून लेकर इसे एक विशेष अपकेंद्रित्र यानि कि सेंट्रीफ्यूज में रखते हैं। जहां प्लेटलेट्स खून के बाकी हिस्सों से अलग हो जाते हैं। फिर इसके प्रभाव को बढ़ाने के लिए प्लेटलेट्स को चोट लगे, दर्द या इलाज की जाने वाली जगह पर इंजेक्ट किया जाता है। PRP Therapy For Hair Fall Hindi Me इसकी मदद से चोट या दर्द कुछ दिनों के अंदर ठीक होने शुरू हो जाते हैं।

विशेषज्ञ का मानना है कि क्षतिग्रस्त लिगामेंट्स और जोड़ों में प्लेटलेट्स वृद्धि कारकों को इंजेक्शन लगाने से प्राकृतिक मरम्मत कि प्रक्रिया उत्तेजित होती है। इस तकनीक कि मदद से गर्दन, पीठ और कंधा दर्द, घुटनों में दर्द और सूजन और दूसरी ऐसी ही ढेरों परेशानियों को काफी हद तक दूर किया जा सकता है। इसके अलावा, हेयर ट्रीटमेंट के लिए भी खासकर इलाज कि इस प्रक्रिया का इस्तेमाल किया जाता है।             

हेयर पीआरपी थेरेपी क्या है — What is Hair PRP Therapy in Hindi — Hair PRP Kya Hai in Hindi   

बालों के झड़ने कि समस्या से आज लगभग हर कोई परेशान है। इस परेशानी को दूर करने के लिए पीआरपी एक सफल, सुरक्षित, प्रभावशाली और एक नॉन सर्जिकल इलाज का माध्यम है। यह प्लेटलेट्स को सक्रिय करने में मदद करता है जिसकी वजह से सक्रिय प्लेटलेट्स हेयर फॉलिकल्स को बढ़ने के लिए सेल्स को उत्तेजित कर सकते हैं।

PRP Therapy For Hair Fall in Hindi Mein यह निष्क्रिय फॉलिकल तथा ट्रांसप्लांटेड हेयर फॉलिकल के लिए बहुत अच्छा है। इस उपचार कि मदद से गंजेपन को दूर कर घने और मजबूत बाल पाए जा सकते हैं। आज के समय में बड़ी संख्या में लोग इस विधि का उपयोग कर रहे हैं। 

पीआरपी थेरेपी  के फायदे — Benefits of PRP Therapy in Hindi — PRP Ke Faayde Hindi Me

जैसा कि हम आपको ऊपर ही बता चुके हैं कि पीआरपी का इस्तेमाल ढेरों समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। हम आपको नीचे कुछ ऐसे मेडिकल कंडीशन यानी कि लक्षण, बीमारी और समस्या के बारे में बता रहे हैं जिसके इलाज के लिए पीआरपी बहुत प्रभावशाली माध्यम समझा जाता है। (आगे पढ़ें: लिपोसक्शन क्या है)

  • पीआरपी कफ चोट को ठीक करता है। 
  • कंधे में दर्द कि शिकायत से राहत दिलाता है।
  • पीआरपी टखने कि मोच में फायदेमंद होता है। 
  • घुटने कि चोट और स्थिरता के लिए यह बेहतर इलाज है। 
  • बाल पतला होने, झड़ने तथा गंजेपन कि समस्या से छुटकारा दिलाता है। 
  • टेनिस और गोल्फर कोहनी में भी इस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। 
  • पीआरपी का उपयोग टंडोनिटिस और प्लांटर फासीसिटिस के लिए भी किया जाता है। 
  • सैक्रोइलियक ज्वॉइंट रोग और दर्द से राहत दिलाने में पीआरपी बड़ी भूमिका निभाता है। 
  • जोड़ों और घुटनों में दर्द तथा कूल्हे के साथ साथ ऑस्टियोआर्थराइटिस का बढ़िया इलाज है। 
  • पीआरपी लंबर दर्द और सर्विकल फेसेट डिस्फंक्शन के इलाज प्रभावशाली तरीके से करता है।
  • पीआरपी कि मदद से तंत्रिका ट्रंकल सिंड्रोम जैसे कि कार्पल टनल सिंड्रोम का इलाज किया जाता है। 
  • रीढ़ कि हड्डी में दर्द होने पर आप इस तकनीक कि मदद लेकर अपनी समस्या को दूर कर सकते हैं। 
  • हैमस्ट्रिंग और हिप स्ट्रेंस कि समस्याओं को दूर करने के लिए आप पीआरपी का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • पेटोलोफेमोरल सिंड्रोम और पेटेलर टेन्डोनिटिस का उपचार करने के लिए पीआरपी का इस्तेमाल किया जाता है। 

अगर आप ऊपर बताए गए किसी भी बीमारी या परेशानी से पीड़ित हैं तो डॉक्टर से मिलकर इस बारे में बात कर सकते हैं। 

आगे पढ़ें: लैपरोस्कोपिक सर्जरी: प्रक्रिया और फायदे

पीआरपी थेरेपी के नुकसान — Side Effects of PRP Therapy in Hindi — PRP Ke Kya Nuksan Hain in Hindi 

जैसा कि आप पहले ही ऊपर पढ़ चुके हैं कि पीआरपी की प्रक्रिया में आपके खून का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपको इससे कोई प्रतिक्रिया न हो। शोध से यह बात सामने आई है कि बिना किसी बड़े साइड इफेक्ट्स के पीआरपी कि मदद से पुरुष और महिला दोनों के बाल झड़ने कि समस्या को दूर किया जा सकता है। पीआरपी ट्रीटमेंट के दौरान इंजेक्शन लगाते समय आपको सिर में हल्का दर्द, पिनपॉइंट ब्लीडिंग और लालिमा हो सकती है। कभी कभी थेरेपी के अगले दिन भी कुछ मरीजों में हल्का फूलका दर्द देखा जा सकता है।     

आगे पढ़ें: हेयर ट्रांसप्लांट के साइड इफेक्ट्स  

अगर आप भी ऊपर बताई गई बीमारियों से पीड़ित हैं तो डॉक्टर से मिलकर उसका सही जांच और इलाज करवाना चाहिए। वैसे तो पीआरपी का इस्तेमाल ढेरों समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है। लेकिन ज्यादातर इसका उपयोग बाल झड़ने कि परेशानी को ठीक करने के लिए किया जाता है। अगर आप भी बाल झड़ने या गंजेपन से परेशान हैं तो इस तकनीक कि मदद से बाल को झड़ने से रोक सकते हैं।    

आगे पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *