यूएसएफडीए द्वारा प्रमाणित प्रक्रियायूएसएफडीए द्वारा प्रमाणित प्रक्रिया
चीरा नहीं लगता है, दर्द और ब्लीडिंग नहीं होती हैचीरा नहीं लगता है, दर्द और ब्लीडिंग नहीं होती है
सभी इंश्योरेंस कवर किये जाते हैंसभी इंश्योरेंस कवर किये जाते हैं
उसी दिन इलाज और डिस्चार्जउसी दिन इलाज और डिस्चार्ज

अभी अपॉइंटमेंट लें

पायलोनिडल साइनस क्या है?

पायलोनिडल साइनस एक मेडिकल कंडीशन है। इस स्थिति में स्किन में एक छोटा सा छेद होता है। यह आमतौर पर रीढ़ की हड्डी के निचले हिस्से पर होता है। महिलाओं की तुलना में यह पुरुषों में अधिक आम है। पायलोनिडल साइनस को सिस्ट या फोड़ा भी कहा जाता है। इसका साइज समय के साथ साथ धीरे धीरे बढ़ता है। बैक्टीरिया की वजह से इसमें संक्रमण पैदा हो जाता है जिसकी वजह से इसमें सूजन और दर्द होने शुरू हो जाते हैं। एक समय के बाद इसमें पस बनाना शुरू हो जाता है जो आगे जाकर फोड़े का रूप भी ले लेता है।

अभी अपॉइंटमेंट लें

उपचार

जांच

पायलोनिडल साइनस के इलाज से पहले डॉक्टर इसका डायग्नोसिस करते हैं ताकि वह इस समस्या और इसकी स्थिति को अच्छे से समझ सकें और फिर इलाज के बेहतर माध्यम का चुनाव करते हैं। डायग्नोसिस के लिए डॉक्टर मरीज की शारीरिक जांच करते हैं जिसमें खून जांच मौजूद है। साथ ही साथ डॉक्टर मरीज से कुछ सवाल भी पूछते हैं जैसे कि आप में पायलोनिडल साइनस के क्या लक्षण हैं, किसी तरह का कोई सप्लीमेंट लेते हैं क्या, आप किसी दूसरी बीमारी का इलाज करा रहे हैं और पायलोनिडल की समस्या कितने दिनों से है।

पायलोनिडल साइनस स्किन में छोटा छेद है जो पस से भरा हुआ होता है। इसमें कुछ मात्रा में खून भी हो सकता है। यह आमतौर पर कूल्हे के ऊपर या पीठ के निचले हिस्से में होता है। इसकी वजह से गंभीर दर्द हो सकता है।

प्रक्रिया

आजकल बहुत सारी बीमारियां फैल रही हैं और पायलोनिडल साइनस इनमें से एक है। शुरू में इसका साइज़ बहुत छोटा होता है और इसकी वजह से कोई परेशानी भी नहीं होती है। इसलिए ज्यादातर लोग इसपर ध्यान नहीं दे पाते हैं। लेकिन जब इसका साइज बढ़ जाता है, इसमें पस और सूजन हो जाती है तो इस स्थिति में सर्जरी कराना ही सबसे बेहतर इलाज होता है।

आमतौर पर पायलोनिडल साइनस खतरनाक नही होते हैं। लेकिन अगर इसकी स्थिति खराब हो गई तो इसकी वजह से पुरे शरीर में इंफेक्शन, स्किन कैंसर और दूसरी कई बीमारियां हो सकती है। इसकी वजह से उठने, बैठने, टाइट कपड़े पहनने और सोने में परेशानी हो सकती है तो ऐसे सिचुएशन में सर्जरी के द्वारा इसका इलाज करना सबसे बेहतर माना जाता है।

पायलोनिडल से हमेशा के लिए छुटकारा पाने के लिए लेजर सर्जरी बेस्ट ट्रीटमेंट मेथड है। संक्रमित पायलोनिडल साइनस के इलाज का एक दिन का ट्रीटमेंट मेथड है। इस सर्जरी के दौरान संक्रमित फोड़े को बाहर निकाल दिया जाता है ताकि दोबारा इंफेक्शन ना हो। यह सर्जरी आधे घंटे में पूरी हो जाती है और उसी दिन मरीज को डिस्चार्ज कर दिया जाता है।

लेजर सर्जरी के फायदे

बहुत ही आसान प्रक्रिया है।,30 मिनट का समय लगता है।,दर्द नही होता है।,खून नही बहता है।,टांके नही लगते हैं।,जख्म नही बनते हैं।,दाग नहीं आते हैं।,उसी दिन डिस्चार्ज।,2-3 दिन के अंदर मरीज पूरी तरह फिट।

आहार / निर्देश

शरीर में सूजन को कंट्रोल करने के लिए मेथी की जड़ी-बूटियों को आहार में शामिल करें।,अपने एंटीबायोटिक और एंटीफंगल गुणों के कारण लहसुन को आहार में शामिल करें।,गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर रोजाना पियें।,हल्दी को इसके सूजन-विरोधी फायदों के कारण लें।,रोजाना दो चम्मच एप्पल साइडर विनेगर लें।

Pristyn Care क्यों चुनें?

Pristyn Care is COVID-19 safe

Pristyn Care कोविड-फ्री है

हमारी क्लीनिक में मरीज की सेहत और सुरक्षा का खास ध्यान रखा जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए हमारी सभी क्लिनिक और हॉस्पिटल को नियमित रूप से सैनेटाइज किया जाता है।

Pristyn Care is COVID-19 safe

मेडिकल सहायता

सर्जरी से पहले होने वाली सभी चिकित्सीय जाँच में रोगी को मेडिकल सहायता दी जाती है। हमारी क्लीनिक में बीमारियों का उपचार के लिए लेजर एवं लेप्रोस्कोपिक प्रक्रियाओं का उपयोग होता है, जो USFDA द्वारा प्रमाणित हैं।

Pristyn Care is COVID-19 safe

सर्जरी के दौरान सहायता

हम हर मरीज को एक केयर बड्डी उपलब्ध कराते हैं जो एडमिशन से लेकर डिस्चार्ज की प्रक्रिया तक हॉस्पिटल से जुड़े सभी पेपरवर्क को पूरा करता है। साथ ही, मरीज की जरूरतों का खास ध्यान रखता है।

Pristyn Care is COVID-19 safe

सर्जरी के बाद देखभाल

सर्जरी के बाद फ्री फॉलो-अप मीटिंग की सुविधा उपलब्ध है। साथ ही, मरीज को डाइट चार्ट और आफ्टरकेयर टिप्स दी जाती है ताकि उनकी रिकवरी जल्दी हो।

Pristyn Care के आँकड़े

60k+संतुष्ट मरीज
90+क्लीनिक
30+शहर
20k+सर्जरी
300+डॉक्टर
400+अस्पताल

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न

पायलोनिडल साइनस को कैसे रोका जा सकता है?

expand icon

इस बीमारी को रोकने के लिए नीचे कुछ खास बातों को लिखा गया है, जिसका ध्यान रखना जरूरी है:

कूल्हे के क्षेत्र को साफ रखना।,जो लोग पहले इस बीमारी से पीड़ित रह चुके हैं उन्हें भी समय समय पर कूल्हे के क्षेत्र को साफ सुथरा रखना चाहिए।,जो मोटापे से पीड़ित हैं, उन्हें अपने वजन को कम करना चाहिए।,एक जगह ज्यादा देर तक ना बैठें।,समय समय पर डॉक्टर या पायलोनिडल एक्सपर्ट से मिलना और उनकी सलाह को फॉलो करना इस बीमारी को होने से रोक सकता है।

पायलोनिडल साइनस का इलाज नहीं कराया गया तो क्या होगा?

expand icon

ज्यादातर पायलोनिडल मरीज के लिए सर्जरी सबसे बेस्ट इलाज होता है। क्योंकि यह इस समस्या और इसके लक्षणों को हमेशा के लिए खत्म कर देता है। अगर समय पर इसका इलाज नहीं कराया गया तो इसकी वजह से आपको बहुत तेज दर्द, खून में संक्रमण, गंभीर सेप्सिस जैसी समस्या हो सकती है। साथ ही साथ यह दूसरी काफी बीमारियों का कारण बन सकता है। इसलिए समय पर डॉक्टर से मिलकर इसका बेहतर इलाज कराना चाहिए।

पायलोनिडल साइनस खतरनाक है क्या?

expand icon

अगर यह संक्रमित हो गया तो इसकी वजह से दर्द और सूजन हो सकती है। कुछ केसेस में दर्द और सूजन इतना जयादा बढ़ जाता है कि मरीज को ये बर्दाश्त करना मुश्किल हो जाता है। लेजर सर्जरी के जरिए पायलोनिडल साइनस को हमेशा के शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है। किसी भी बीमारी को पूरी तरह से अनदेखी करना खतरनाक हो सकता है। क्योंकि ये बीमारी समय के साथ साथ गंभीर रूप लेना शुरू कर देती है। बेहतर है बिना देरी किए डॉक्टर से मिलकर इसका बेहतर इलाज कराया जाए। आगरा के प्रिस्टीन केयर हॉस्पिटल में पायलोनिडल साइनस के विशेषज्ञ उपलब्ध हैं जिन्हें लेजर सर्जरी में महारत हासिल है।

क्या पायलोनिडल साइनस अपने आप ठीक हो सकता है?

expand icon

बहुत कम केसेस में ऐसा हुआ है कि पायलोनिडल साइनस अपने आप ठीक हो गया हो। लेकिन ज्यादातर केसेस में यह अपने आप ठीक नहीं होता है बल्कि मामूली से गंभीर समस्या का रूप ले लेता है। जिसकी वजह से मरीज को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ जाता है। पायलोनिडल का बेहतर इलाज लेजर सर्जरी के द्वारा किया जाता है। इस प्रक्रिया में पायलोनिडल को काटकर शरीर से अलग कर दिया है।

अगर मुझे पायलोनिडल साइनस है तो क्या करना चाहिए?

expand icon

अगर आप पायलोनिडल की शुरुआती स्टेज में हैं तो आपको संक्रमण, लालीपन, सूजन और दर्द महसूस होगा। दर्द से राहत पाने के लिए आप हल्के गर्म पानी में स्नान कर सकते हैं। इससे आराम मिलेगा। बिना देरी किए डॉक्टर से मिलें और इसका उचित इलाज कराएं।

क्या पायलोनिडल साइनस कैंसर का कारण बन सकता है?

expand icon

नॉर्मल स्थिति में सर्जरी की मदद से पायलोनिडल को बहुत ही आसानी से शरीर से बाहर निकाला जा सकता है। लेजर की यह प्रक्रिया पूरी तरह से आसान और सुरक्षित होती है। इस सर्जरी के दौरान या बाद में मरीज को किसी तरह की परेशानी होने के चांसेस बहुत कम होते हैं। पायलोनिडल साइनस का लेजर सर्जरी द्वारा इलाज बेस्ट माना जाता है क्योंकि यह इस बीमारी को हमेशा के लिए खत्म कर देता है। लेकिन कुछ केसेस में लेजर सर्जरी के बाद भी फिर से यह मरीज में आ सकती है। यह बहुत ही रेयर केसेस में देखा गया है। लंबे समय तक इसे अनदेखी करने की वजह से यह समस्या स्किन कैंसर का कारण भी बन सकती है।

आगरा के करीबी शहर, जहाँ हम पायलोनिडल साइनस का उपचार प्रदान करते हैं

आगरा में पायलोनिडल साइनस का बेस्ट इलाज

आगरा में प्रिस्टीन केयर एक इको-सिस्टम तैयार कर रहा है जहां पायलोनिडल साइनस के मरीजों की सर्जरी बहुत बेहतरीन तरीके की जाती है। यह पूरी प्रक्रिया मरीज के लिए एक सीमलेस सर्जिकल एक्सपेरिएंस (Seamless Surgical Experience) होती है। हमारे सर्जन बहुत ही अनुभवी और कौशल हैं जो एडवांस्ड लेजर तकनीक से इलाज करते हैं। इसमें असुरक्षा का खतरा लगभग ना के बराबर होता है।

अगर आप आगरा में पायलोनिडल साइनस से पीड़ित हैं तो तुरंत इसका इलाज कराना चाहिए। अगर समय पर इसका इलाज नहीं हुआ तो यह दूसरी कई अन्य बीमारियों का कारण बन सकता है। आगरा में पायलोनिडल साइनस के बेस्ट इलाज मौजूद है। प्रिस्टीन केयर में लेजर सर्जरी के जरिए पायलोनिडल साइनस का बेहतर तरीके से इलाज किया जाता है। अगर आप आगरा में पायलोनिडल साइनस की समस्या से परेशान हैं तो तुरंत हमसे संपर्क करें। हमारे मेडिकल कोऑर्डिनेटर आपसे बस एक फोन कॉल दूर हैं। वे आपकी परेशानी को समझने के बाद, डॉक्टर के साथ आपका अपॉइटमेंट बुक करेंगे और साथ ही आपको समय-समय पर आपके अपॉइटमेंट से संबंधित जानकारी भी आपके साथ शेयर करते रहेंगे।

आगरा प्रिस्टीन केयर में पायलोनिडल साइनस की सर्जरी

आगरा के प्रिस्टीन केयर हॉस्पिटल में पायलोनिडल साइनस की सर्जरी के दिन हम मरीज को कैब फैसिलिटी देते हैं जो ऑपरेशन के दिन उन्हें घर से हॉस्पिटल और ऑपरेशन के बाद हॉस्पिटल से घर छोड़ती है। आगरा के प्रिस्टीन केयर हॉस्पिटल में मरीज के पहुंचने से पहले उनके लिए एक केयर बड्डी (Care Buddy) मौजूद रहता है जो इलाज से पहले के सभी डॉक्युमेंट्स से संबंधित काम को पूरा करता है। साथ ही साथ इलाज के बाद जब तक मरीज हॉस्पिटल में रूकते हैं, केयर बड्डी उनकी देखरेख और जरूरी चीजों का ख्याल रखता है।

आगरा के प्रिस्टीन केयर हॉस्पिटल में सभी डायग्नोस्टिक टेस्ट पर 30% तक की छूट, गोपनीय परामर्श, डीलक्स रूम की सुविधा और सर्जरी के बाद फ्री फॉलो-अप्स की सुविधा उपलब्ध है। साथ ही आप 100% इंश्योरेंस क्लैम भी कर सकते हैं। अगर आप आगरा में पायलोनिडल साइनस का इलाज लेजर सर्जरी के जरिए कराना चाहते हैं तो तुरंत प्रिस्टीन केयर हॉस्पिटल से संपर्क करें और अपनी बीमारी से हमेशा के लिए छुटकारा पाएं।

आगरामें पायलोनिडल साइनस का लेजर सर्जरी द्वारा इलाज

आगरा के प्रिस्टीन केयर हॉस्पिटल में पायलोनिडल साइनस की सर्जरी के दौरान या बाद में दर्द, टांके और निशान नहीं आते हैं। यह सर्जरी 30 मिनट की प्रक्रिया है। 48 घंटे के अंदर मरीज अपनी रूटीन लाइफ शुरू कर सकता है। पारंपरिक ऑपरेशन की तुलना में, लेजर सर्जरी के बाद मरीज बहुत तेजी से ठीक होता है। ज्यादातर लोग लेजर सर्जरी का चुनाव करते हैं क्योंकि इसके दौरान कम दर्द और ब्लड लॉस होता है।

प्रिस्टीन केयर में लेजर सर्जरी द्वारा पायलोनिडल साइनस का इलाज बहुत ही अनुभवी और कुशल सर्जन के द्वारा किया जाता है। अगर आप इस समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पाना चाहते हैं तो आगरा के प्रिस्टीन केयर हॉस्पिटल से संपर्क कर सकते हैं। हमें उम्मीद है की प्रिस्टीन केयर में आपका इलाज आपके लिए एक बेहद ही शानदार हेल्थकेयर एक्सपीरियंस होगा।

हमारी प्राथमिकता मरीज की बीमारी को हमेशा के लिए ठीक करना, इलाज के समय उनका ध्यान रखना, एक केयर बड्डी उपलब्ध कराना जो मरीज के बदले डॉक्युमेंट्स से संबंधित सभी काम खुद करता है और इन सबसे खास, हॉस्पिटल में मरीज के स्टे के दौरान उनकी अच्छी देखभाल करना है।

+ और पढ़ें

हमसे संपर्क करें

अपनी समस्या साझा करें — हम आपको इलाज का सबसे बेहतरीन विकल्प देंगे।

Pristyn Care भारत के कई शहरों में मौजूद है

अभी अपॉइंटमेंट लें

Pristyn Care Clinics in Agra