बवासीर का घर पर होने वाला इलाज – piles treatment in home

बवासीर का घर पर होने वाला इलाज - piles treatment in home

Piles treatment at home यानी घर पर बवासीर बीमारी का इलाज। बवासीर एक ऐसी बीमारी है, जिसका दर्द सहना किसी भी उम्र के इंसान के लिए बेहद मुश्किल होता है। बवासीर के कारण किसी भी इंसान को पाखाना करने और बैठने में असहनीय पीड़ा झेलना होता है। गुदा (पाख़ाना) की जगह पर मलाशय के आसपास की नसों में सूजन होने के कारण बवासीर जैसी गंभीर बीमारी विकसित होती है। इसे इंग्लिश में पाइल्स (piles) कहा जाता है। आइए बवासीर- पाइल्स (piles) के बारे में जानते हैं और यह समझते हैं कि कैसे बवासीर की बीमारी को घर पर कैसे ठीक किया जा सकता है- how to piles treatment at the home।

Piles- पाइल्स (बवासीर) क्या होता है?

Piles- पाइल्स यानी बवासीर। पाइल्स एक ऐसी बीमारी है जिसमें कभी – कभी इंसान का बैठना भी मुश्किल हो जाता है। इस बीमारी में गुदा- ऐनस (मल त्याग का भाग) के अंदरूनी और बाहरी हिस्से और मलाशय (रेक्टम) के निचले हिस्से की शिराओं में सूजन पैदा हो जाती है। इसकी वजह से ऐनस के अंदर और बाहर किसी एक जगह पर मस्से जैसी स्थिति बन जाती है, जो अंदर बाहर होती रहती है। इसे मेडिकल की भाषा में हेमरॉइड्स (बवासीर) कहा जाता है।

बवासीर कितने तरह की होती है- type of piles

  • खूनी बवासीर- bleeding piles
  • बादी बवासीर

खूनी बवासीर- bleeding piles– इसमें खून आता रहता है, लेकिन दर्द नाम-मात्र का भी नहीं होता। इस बीमारी का लक्षण जरा देर से पता चलता है। खूनी बवासीर सबसे कठिन होता है। यह जटिलता के तौर पर देखा जाता है, क्योंकि अधिक खून बहने से व्यक्ति कमजोर हो जाते हैं। मल द्वार के आस – पास सूजन आ जाती है। इसमें कई तरह से बचाव करने की जरूरत होती है। शौच के दौरान अगर खून आए तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए।

बादी बवासीर– बादी बवासीर में दर्द होता है। पेट में दर्द बना रहता है। पेट अधिकतर समय खराब रहता है। यह बीमारी 45 से 65 वर्ष के बीच के लोगों में होना काफी आम बात है।

बवासीर होने के लक्षण- Symptoms of Piles

बवासीर होने के लक्षण कुछ इस तरह के होते हैं:

  • मल द्वार (ऐनस) के आस-पास गांठ जैसा कुछ महसूस होना। इस गांठ में खून जमा हो सकता है। इस लक्षण में दर्द अधिक होता है।
  • शौच (टॉयलेट) के बाद भी पेट भरा हुआ सा महसूस होना।
  • शौच (लैट्रिन) के समय खून आना।
  • शौच (लैट्रिन) करते समय दर्द का एहसास होना।
  • मल द्वार (ऐनस) के आसपास खुजली होना और लाल – लाल चकते पड़ जाना और सूजन आ जाना।

बवासीर होने का कारण- Causes of hemorrhoids

बवासीर बीमारी होने के कई कारण होते हैं- (Causes of hemorrhoids) जैसे:

  • पेट में लम्बे समय तक कब्ज बनी रहना।
  • नियमित रूप से शौच न जाना।
  • एक ही पोजीशन में लंबे समय तक बैठे रहना।
  • लंबे समय तक खड़े रहना।
  • पेट ठीक तरीके से साफ न होना।
  • शौच करते समय अत्यधिक जोर लगाना।
  • टॉयलेट पर काफी समय तक बैठे रहना।
  • माता – पिता से भी बीमारी ट्रांसफर हो सकती है (जेनेटिक्स कारण)।
  • डायरिया की समस्या से पीड़ित होना।
  • भोजन में पोषक तत्वों की कमी होना।
  • अधिकतर मसालेदार भोजन खाना।
  • अधिक दवा खाने से भी बवासीर संभव है।
  • वज़न अधिक होना।
  • महिलाओं में प्रसव के समय बवासीर होने का खतरा बढ़ जाता है, क्योंकि ऐनस एरिया में अधिक दबाव होता है।

जानिए हिंदी में बवासीर का इलाज- piles treatment in hindi

बवासीर लाइलाज नहीं है। बवासीर- piles का इलाज संभव है। बस जरूरत होती है सही समय पर इसकी पहचान कर डॉक्टर से सलाह लेने की। बवासीर के कुछ मामले बिगड़ जाने पर यानी बवासीर को अधिक समय हो जाने पर डॉक्टर इसका आपरेशन करने के लिए भी बोलते हैं। इसी लिए बवासीर के लक्षण को पहचान कर जितना जल्दी बवासीर का इलाज- piles treatment करा लिया जाए उतना ही बेहतर होता है।

  • दवा के जरिए भी बवासीर का इलाज किया जा सकता है लेकिन तभी तक जब तक बवासीर प्रथम चरण या दूसरे चरण में हो। बवासीर के दूसरे स्टेज तक होने पर आपरेशन की जरूरत नहीं पड़ती। अगर मस्से थोड़े बड़े है तो उनको रबर बैंड लीगेशन का प्रयोग करते हुए जड़ पर एक या दो रबर बैंड बाँध दिया जाता है। इससे खून बहना रुक जाता है और एक या दो सप्ताह बाद बवासीर का मस्सा सूख कर समाप्त हो जाता है। (इस विधि का प्रयोग हमेशा डॉक्टर के सलाह से ही करना चाहिए)
  • मस्सा अगर बड़ा हो गया है और बाकी सभी piles treatment के उपाय असफल हो चुके हैं तो डॉक्टर हेमरॉयरडक्टमी का तरीका अपनाते हैं। यह प्रक्रिया आपरेशन कहलाती है। इसमें अंदर या बाहर के मस्से को काटकर बाहर निकाल दिया जाता है।

बवासीर को घरेलू तरीकों ( homemade remedies for piles) से भी ठीक करना संभव है। आइए समझते हैं कि बवासीर को ठीक करने के घरेलू तरीके- (homemade remedies for piles) क्या हैं?

बवासीर को घर पर ठीक करने का उपचार- Piles treatment at home

यदि किसी इंसान को बवासीर के आपरेशन से बचना है तो उसको घरेलू उपचार (homemade remedies) अपनाना चाहिए। बवासीर को ठीक करने के घरेलू उपचार- homemade remedies for piles उपचार निम्नलिखित हैं:

पानी पीने की मात्रा बढ़ाएं

बवासीर के उपचार में (piles treatment) यह बहुत महत्वपूर्ण है रोज़ाना भरपूर मात्रा में पानी पीना । यहां यह ध्यान रखने वाली बात है कि पानी में किसी प्रकार की किसी चीज की मिलावट नहीं की गई है। सादा पानी ही फ़ायदेमंद होता है। सॉफ्ट ड्रिंक, कॉफी, चाय और शराब जैसी चीजों से जरा दूरी बनाएं।

गर्म पानी का इस्तेमाल करना चाहिए

बवासीर के उपचार- Piles treatment के अनुसार गरम पानी (गुनगुने पानी) से नहाने से भी बवासीर (पाइल्स) में राहत मिलती है। गरम पानी का प्रयोग करने से सूजन और खुजली कम होती है। अगर खुजली हो रही हो तो उस हिस्से (जहां खुजली हो रही है) पर नारियल तेल लगाने से राहत मिलती है।

बवासीर का उपचार करने के दौरान- Piles treatment के अनुसार गरम पानी के इस्तेमाल करने की दूसरी विधि यह है कि पानी को गुनगुना गरम करके उसे एक बड़े बर्तन में रखे और उस बर्तन में बैठने की कोशिश करें। यह ऐसे पोजीशन में होना चाहिए जिससे की गुदा (पाख़ाना करने की जगह) गरम पानी में रहे। इससे मांसपेशियों को आराम मिलता है और मल निकलने में आसानी रहती है। इस विधि का प्रयोग अपने डॉक्टर से पूछने के बाद ही करें और अगर कोई महिला गर्भवती हैं तो उन्हें इस विधि का प्रयोग करने से बचना चाहिए। इससे हो सकता है कि पेट में पल रहे शिशु को नुकसान पहुंचे।

नियमित व्यायाम करने से प्राप्त होगा लाभ

घर पर बवासीर का उपचार करने में (Piles treatment at home) सबसे आसान और असरदार तरीका है- व्यायाम करना। अगर कोई बवासीर का मरीज़ नियमित तौर पर व्यायाम करता है, अपनी जीवन शैली नियमित रखता है तो इससे उसे कब्ज की बीमारी से मुक्ति मिल सकती है। दूसरा फायदा यह है कि इससे ब्लड-प्रेशर भी कंट्रोल रहता है। तो फिर आलस का त्याग करना चाहिए और नियमित तौर पर व्यायाम करना चाहिए।

Piles cure at home में आइस पैक भी करेगा मदद

Piles treatment at home यानी बवासीर का घर पर उपचार के दौरान एक शानदार विधि आइस पैक को इस्तेमाल करना भी है। आइस पैक को पाइल्स की बीमारी दूर करने में काफी सहायक माना जाता है। आइस पैक का प्रयोग बवासीर से प्रभावित हिस्से की सिकाई करने में होता है। इससे रोजाना 5 से 10 मिनट तक सिकाई करने से बवासीर की समस्या से आराम मिलता है।

Natural treatment for piles में एलो वेरा का महत्वपूर्ण योगदान

कुछ लोगों का यह मानना होता है कि एलो वेरा सिर्फ स्किन को सॉफ्ट और स्पॉटलेस के ही काम में आता है लेकिन एलो वेरा बवासीर के लिए बेहतरीन औषधि यानी दवा है। इससे पाइल्स की बीमारी में काफी राहत मिलती है। पाइल्स में एलो वेरा का इस्तेमाल करने के तरीके बारे में बात करें तो एलो वेरा के जैल को पाइल्स वाले हिस्से में बाहर के तरफ लगाना होता है। दिन में 2 से 3 दिन एलो वेरा का इस्तेमाल करने से काफी आराम मिलता है।

मल निकालने के लिए जोर नहीं लगाना चाहिए

Natural treatment for piles यानी प्राकृतिक तरीके से बवासीर के इलाज का सबसे अहम हिस्सा है मल करते समय अधिक जोर न डालना। इससे बचने के लिए आसान तरीका है- जब लगे कि पाख़ाना लग रहा है तो तुरंत निपट लेना चाहिए। इससे आपको अधिक जोर भी नहीं लगाना होगा और धीरे – धीरे यह रूटीन का हिस्सा बन जायेगा। घर पर होने वाले बवासीर के इलाज (piles treatment at home) में यह बहुत ही खास तरीका होता है बवासीर को दूर भगाने का।

बवासीर होने पर इन चीजों से करें परहेज

  • मिर्च: हरी और लाल दोनों नहीं खाना चाहिए इससे जख्म फिर से सक्रिय हो जाता है। मिर्च के साथ ही अधिक चटपटा खाने से भी करना चाहिए परहेज।
  • किसी भी तरह का धूम्रपान या गुटखा: वैसे नशा तो किसी भी बीमारी में नहीं करना चाहिए लेकिन जब बवासीर हो तो इस बात का खास ध्यान रखना चाहिए।
  • फ़ास्ट फूड से रहे दूर: बवासीर होने पर फास्ट फूड से जितना हो सके दूरी बनाएं रखें।
  • बाहर का खाना: बवासीर होने पर बाहर का खाना खाने से परहेज करना चाहिए क्योंकि बाहर के खाने में नमक, मिर्च और साफ सफाई का ध्यान नहीं रखा जाता है जबकि घरों में खाना सफाई से बनाया जाता है और मसालों का कम इस्तेमाल किया जाता है। अस्वस्थ खाने से पाइल्स का संक्रमण बढ़ सकता है और दर्द भी बहुत ज्यादा बढ़ जाता है।
  • घी और तेल से करना चाहिए परहेज: पाइल्स के मरीज को घी और तेल के ज्यादा इस्तेमाल से बचना चाहिए। घी व तेल का अधिक इस्तेमाल पाइल्स को और दर्दनाक बना सकता है।
  • मसूर की दाल: बवासीर के मरीज़ों को राजमा और दूसरी दालें जैसे मसूर आदि खाने से परहेज करना चाहिए। इनके सेवन से यह समस्या बढ़ सकती है।

अब तब आपने बवासीर का घर पर किया जाने वाला इलाज (piles treatment at home) अच्छी तरह समझ लिया होगा। अगर आप या आपके कोई परिचित बवासीर की समस्या से पीड़ित हैं तो जितना जल्दी हो सके उतनी जल्दी इलाज करा लेना बेहतर होगा।

बवासीर के इलाज के लिए आपको कही भटकने की जरूरत नही है। प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care) के पास हर तरह की बवासीर को जड़ से खत्म करने का उपचार उपलब्ध है।

प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care) के पास अनुभवी डॉक्टरों की टीम आपकी सेवा के लिए सदैव तत्पर रहती है। यहां पर इलाज के लिए एडमिशन से लेकर इलाज के बाद डिस्चार्ज तक की बेहतरीन सुविधा प्राप्त होती है। प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care) द्वारा वर्तमान में कई शहरों में सेवा प्रदान की जा रही है।

प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care) से ही क्यों कराएं अपना इलाज

प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care) से बवासीर का इलाज कराने के कई फायदे हैं, जैसे:

  • मरीज़ का ख्याल:- मरीज़ को अपने आप कुछ नही करना पड़ता है। प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care) के कर्मचारी मरीज़ की पर्ची बनवाने से लेकर खाने का मैनेजमेंट तक सब काम करते हैं।
  • बेहतरीन इलाज:- प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care) में बेहद उम्दा और अनुभवी डॉक्टरों की टीम कार्यरत है जो मरीज़ों को एक एहसास दिलाती है कि अब बीमारी दूर होने वाली है।
  • उच्च टेक्नोलॉजी का उपयोग:- प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care) में उच्च टेक्नोलॉजी से बनी मशीनों से इलाज किया जाता है जिससे मरीज़ को दर्द का एहसास तक नही होता।
  • बेहतरीन सुविधा:- बेहतरीन सुविधाओं में शामिल है- एक दिन के अंदर डिस्चार्ज, कोई EMI कॉस्ट नही, आपरेशन के बाद निःशुल्क फालोअप और आपरेशन कराने वाले मरीज़ों के आने और जाने के लिए निःशुल्क वाहन सुविधा।

अगर आप को या आपके किसी भी परिचित को बवासीर की बीमारी है तो आप उन्हें बवासीर के इन घरेलू उपायों (homemade remedies for piles) के बारे में बता सकते हैं या बवासीर की समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care) से इलाज कराने की सलाह दे सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *